मुखपृष्ठ > लॉन्ग्यान
"चेतेश्वर पुजारा के लिए आया अहम बयान, धवन की बड़ी प्रतिक्रिया, भारत की शर्मनाक हार"
रिलीज़ की तारीख:2022-09-29 05:20:17
विचारों:455

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारUttar Pradesh: कानपुर में जहरीली गैस ने मचाया मौत का तांडव, संपर्क में आए तीन मजदूरों की मौत****** कानपुर जिले के बर्रा इलाके में रविवार को एक निर्माणाधीन मकान में बन रहे ‘सेप्टिक टैंक’ की जहरीली गैस के संपर्क में आने से तीन मजदूरों की मौत हो गई। कानपुर के पुलिस उपायुक्त दक्षिणी प्रमोद कुमार ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि बर्रा इलाके में स्थित मालवीय नगर में बाल गोविंद नामक एक ठेकेदार एक मकान बनवा रहा था। उन्होंने बताया कि इसके निर्माण में शिवा तिवारी (25), अंकित पाल (22) और अमित कुमार (25) नामक मजदूर भी लगे थे। उन्होंने बताया कि ये तीनों मजदूर मकान के निर्माणाधीन सेप्टिक टैंक के अंदर गए थे कि इसी दौरान जहरीली गैस के संपर्क में आने से वे बेहोश हो गए। उन्होंने बताया कि ठेकेदार ने उन तीनों को बचाने की कोशिश की लेकिन सांस लेने में तकलीफ होने पर वह बाहर आ गया।कुमार ने बताया कि सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर तीनों मजदूरों को बाहर निकलवाया लेकिन तब तक शिवा की मौत हो चुकी थी। उन्होंने बताया कि अंकित और अमित को रीजेंसी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। कुमार ने बताया कि इस घटना के बाद मृतकों के परिजनों ने सड़क पर रास्ता जाम कर हंगामा किया लेकिन पुलिस ने आवश्यक कार्यवाही किये जाने का आश्वासन देकर उन्हें समझाया। उन्होंने बताया कि परिजनों की तहरीर मिलने पर मामला दर्ज करके आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।हाल ही में उत्तराखंड के रुद्रपुर में ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र के आजाद नगर में मंगलवार सुबह जहरीली गैस फैलने से एक-एक कर 34 लोगों की तबीयत खराब हो गई थी। पुलिस के अनुसार क्लोरीन गैस के रिसाव से यह समस्या हुई। बेहोशी की हालत में लोगों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां जिला अस्पताल का आईसीयू वार्ड भी फुल हो गया था। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. मंजूनाथ टीसी ने बताया कि आजाद नगर में किसी कबाड़ी के यहां क्लोरीन से भरा हुआ सिलिंडर पहुंचा था, जिसमें गैस के रिसाव से आसपास के क्षेत्र में गैस फैल गई और लोगों की तबीयत खराब होने लगी।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारMaharashtra News: किरीट सोमैया ने संजय राउत के करीबी के खिलाफ लगाया 100 करोड़ के घोटाले का आरोप, ED और IT से जांच की मांग******Highlightsबीजेपी नेता किरीट सोमैया ने शिवसेना नेता संजय राउत के करीबी सुजीत पाटकर के खिलाफ घोटाले का आरोप लगाया है और एफआईआर दर्ज करवाई है। किरीट सोमैया ने इस मामले की ईडी और आयकर विभाग से जांच की भी मांग की है। उनका आरोप है कि कोरोना महामारी के दौरान, अस्पताल और कोविड के इलाज के नाम पर 100 करोड़ का घोटाला किया गया।किरीट का आरोप है कि सुजीत पाटकर ने फर्जी कंपनी बनाकर बीएमसी से 100 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट लिया था। कंपनी का कोई अस्तित्व नहीं होने के बावजूद उन्हें इतना बड़ा कॉन्ट्रैक्ट मिला। किरीट सोमैया ने उद्धव ठाकरे और उनके करीबियों पर भी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।उन्होंने कहा कि कंपनी के ब्लैक लिस्ट किए जाने के बाद भी आदित्य ठाकरे ने उन्हें कई दूसरे मेक शिफ्ट हॉस्पिटल के कॉन्ट्रैक्ट दिए। सोमैया ने ED और Income Tax से जो अपील की है, उसके बाद दोनों एजेंसियों ने उन्हें जांच का आश्वासन दिया है।किरीट के आरोपों के मुताबिक, सुजीत पाटकर ने ब्लैक लिस्ट होने के बाद एक और कंपनी बनाई। पाटकर ने फर्जी कागजों पर जो कंपनी बनाई थी, उसमें कई तरह का झोल था। कंपनी के कागज पर ऊपर के पेपर पर साल 2020 की तारीख थी, जबकि आखरी पन्ने पर जहां पार्टनर्स के हस्ताक्षर थे, वहां तारीख 2010 की लिखी थी। किरीट सोमैया ने बीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि इतना फर्जी कागज था, फिर भी बीएमसी को समझ क्यों नहीं आई?चाय वाले के अकाउंट में 10 करोड़ रुपए डाले गएकिरीट के आरोपों के मुताबिक, 38 करोड़ का पेमेंट बीएमसी की तरफ से पाटकर की कंपनी को किया गया। इसी 38 करोड़ में से चाय वाले के एकाउंट में 10 करोड़ रुपए डाले गए, उसे भी कंपनी में बतौर पार्टनर दिखाया गया है। सुजीत पाटकर की जिस कंपनी को फर्जी बताकर शिकायत की गयी है, उसका नाम लाइफलाइन हॉस्पिटल सर्विसेज एंड फर्म है।इसके अलावा एक कंपनी में राउत की बेटी भी पार्टनर है। कोविड सेन्टर का कॉन्ट्रैक्ट लेने के लिए एक तीसरी कंपनी भी बनाई गई है। इन कंपनियों का कहीं रजिस्ट्रेशन नहीं है। ऐसी कंपनी को मुंबई के कोविड सेंटर का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। 5 कोविड सेंटरों के कॉन्ट्रैक्ट दिए गए हैं। पुणे के कोविड सेन्टर में मरीजों की मौत के बारे इस कंपनी को ब्लैकलिस्ट भी किया गया। इसके बावजूद इसके वर्ली में कोविड सेन्टर का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारJharkhand News: झारखंड में तीन महिलाएं और एक पुरुष को गांव वालों ने गर्म लोहे से दागा, मल-मूत्र पीने के लिए किया विवश, जानें क्या है मामला?******Highlightsहर दिन विकास की सीढ़ी पर आगे बढ़ रहे देश के किसी कोने से, कभी-कभी ऐसी शर्मनाक खबर आ जाती है कि सोचने पर मजबूर होना पड़ जाता है कि ऐसे हालातों से कैसे निपटा जाए? एक मामला झारखंड से आया है, जहां के दुमका के अस्वारी गांव में ‘जादू-टोने’ का आरोप लगाकर तीन महिलाओं सहित एक ही परिवार के चार लोगों को गर्म लोहे की छड़ों से प्रताड़ित करने के बाद उन्हें मल-मूत्र पीने के लिए विवश किया गया। पुलिस ने घटना की जानकारी मिलने के बाद पीड़ितों को बचाया और अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस के अनुसार, दुमका जिला के सरैयाहाट थाना क्षेत्र स्थित अस्वारी गांव में ‘डायन’ बताकर एक ही परिवार की तीन महिलाओं और एक पुरुष को भयावह रूप से प्रताड़ित करने का शर्मनाक मामला सामने आया है। पुलिस ने बताया कि उन्हें जबरन मल-मूत्र पिलाया गया और गर्म लोहे की छड़ों से शरीर को दागा भी गया।जबरन मल-मूत्र पिलाया गयासरैयाहाट के थाना प्रभारी विनय कुमार ने इस घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि अमानवीय प्रताड़ना का यह दौर शनिवार की रात आठ बजे से रविवार तक चला। थाना प्रभारी ने बताया कि अस्वारी गांव के ही लोगों ने ‘जादू-टोना’ करने के शक में तीन ग्रामीण महिलाओं- रसी मुर्मू (55), सोनमुनी टुड्डू (60) और कोलो टुड्डू (45) तथा श्रीलाल मुर्मू नामक 40-वर्षीय पुरुष की जमकर पिटाई की तथा उसके बाद उन्हें जबरन मल-मूत्र पिलाया। उन्होंने बताया कि घटना के बाद पीड़ित परिवार इस कदर सहमा हुआ था कि किसी ने पुलिस से मदद मांगने की हिम्मत तक नहीं की।मामले में FIR दर्ज, आरोपियों की तलाश जारीउन्होंने बताया कि रविवार को जब घटना की जानकारी मिली तो पुलिस बल ने गांव में जाकर चारों पीड़ितों को छुड़ाकर इलाज के लिए सरैयाहाट के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया, जहां से चिकित्सक ने सोनामुनी टुड्डू और श्रीलाल मुर्मू की गंभीर स्थिति को देखते हुए बेहतर इलाज के लिए उन्हें देवघर के एक अस्पताल भेज दिया। थाना प्रभारी के अनुसार मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है और आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए धरपकड़ जारी है।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारIMD Weather Report: दिल्ली में जलभराव से ट्रैफिक जाम, अगले दो दिन और बारिश का अलर्ट******Highlights दिल्ली (Delhi) में शनिवार को लगातार तीसरे दिन बारिश होने के कारण कई जगहों पर जलभराव हो गया। मौसम वैज्ञानिकों ने अगले दो दिन तक और बारिश का अनुमान जताया है। शहर के कई हिस्सों में ट्रैफिक प्रभावित हुआ और कई अहम मार्गों पर वाहनों को रेंगते हुए देखा गया। दिल्ली के प्रमुख मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला ने शनिवार सुबह साढ़े 8 बजे के बाद 6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की।बता दें कि लगातार बारिश के कारण राष्ट्रीय राजधानी में पारा गिर गया और अधिकतम तापमान सामान्य से सात डिग्री नीचे 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 22.6 डिग्री से. दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने शनिवार के लिए भी ‘येलो’ अलर्ट जारी किया था, जिसके तहत दिल्ली में ज्यादातर इलाकों में हल्की बारिश और कुछ स्थानों पर भारी बारिश को लेकर आगाह किया गया था। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने यात्रियों को जाम की स्थिति को देखते हुए अपनी यात्रा की योजना बनाने की सलाह दी।उसने ट्वीट किया, ‘‘इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के अनुसार ‘दिल्ली और आसपास के इलाकों में हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश होगी।’ यात्रियों को इसके अनुसार अपनी यात्रा की योजना बनाने की सलाह दी जाती है।’’ दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘गड्ढे के कारण मजलिस पार्क से आजादपुर की ओर रोड नंबर 51 पर भारी ट्रैफिक है। कृपया इस मार्ग से बचें।’’ उसने कहा, ‘‘राजधानी पार्क मेट्रो स्टेशन के नीचे जलभराव के कारण मुंडका से नांगलोई की ओर रोहतक रोड पर भारी ट्रैफिक है। कृपया इस मार्ग पर यात्रा से बचें।’’उसने बताया कि नजफगढ़ से नांगलोई की ओर बांकी बिहारी स्वीट्स के समीप गड्ढे के कारण नांगलोई नजफगढ़ रोड पर भारी ट्रैफिक है। ट्रैफिक हेल्पलाइन के अनुसार, उन्हें ट्रैफिक जाम से संबंधित 16 शिकायतें मिली, तीन शिकायतें जलभराव और पांच पेड़ों के गिरने की शिकायतें मिली। ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि फिरनी रोड पर जलभराव और गड्ढों के कारण नजफगढ़ में ढांसा और बहादुरगढ़ स्टैंड पर ट्रैफिक प्रभावित है।कुछ यात्रियों ने सोशल मीडिया पर भी लिखा है कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के आजादपुर में ट्रैफिक जाम है। सोशल मीडिया के एक यूजर ने कहा कि नजफगढ़ इलाके में भी ट्रैफिक जाम है। उत्तरी दिल्ली के तिमारपुर में भी ट्रैफिक प्रभावित है। एक सोशल मीडिया यूजर ने कहा कि समयपुर बादली की ओर लिबासपुर अंडरपास में ट्रैफिक बाधित है। अधचिनी रेड लाइट के समीप अरविंदो मार्ग और छतरपुर की ओर महिपालपुर के समीप पेड़ों के गिरने की भी खबरें हैं।इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट (IMD) द्वारा जारी एक बुलेटिन के मुताबिक, ‘‘राष्ट्रीय राजधानी में अगले दो दिन में बादल छाए रहने के साथ ही हल्की बारिश की संभावना है।’’ मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (हिंडन वायु सेना अड्डा, गाजियाबाद, इंदिरापुरम, छपरौला, नोएडा, दादरी, ग्रेटर नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद, मानेसर, बल्लभगढ़) में हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश हुई। आईएमडी द्वारा साझा किए आंकड़ों के अनुसार, शाम साढ़े पांच बजे सापेक्षिक आर्द्रता 100 फीसदी दर्ज की गयी।केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में शाम करीब सात बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 41 दर्ज किया गया, जो ‘अच्छी’ श्रेणी में आता है। गौरतलब है कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के बीच एक्यूआई ‘गंभीर’ माना जाता है।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारSensex में शामिल LIC ने निवेशकों को कराया सबसे अधिक नुकसान, रिलायंस से भी नहीं मिला सहारा******LICHighlights की शीर्ष 10 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 2.29 लाख करोड़ रुपये की गिरावट आई। सबसे अधिक नुकसान में भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) रही। बीते सप्ताह स्थानीय शेयर बाजारों में जबर्दस्त बिकवाली का दौर चला। बीते सप्ताह बीएसई का सेंसेक्स 1,465.79 अंक यानी 2.63 प्रतिशत नीचे आया। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में 382.50 अंक यानी 2.31 प्रतिशत का नुकसान देखा गया। समीक्षाधीन सप्ताह में रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 44,311.19 करोड़ रुपये घटकर 18,36,039.28 करोड़ रुपये रह गया।सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों- टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और इन्फोसिस के बाजार मूल्यांकन में सामूहिक रूप से 45,746.13 करोड़ रुपये की गिरावट आई। टीसीएस का बाजार पूंजीकरण घटकर 12,31,398.85 करोड़ रुपये रह गया। वहीं इन्फोसिस का मूल्यांकन 6,21,502.63 करोड़ रुपये पर आ गया। देश के शीर्ष बैंकों एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का बाजार मूल्यांकन बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 34,970.26 करोड़ रुपये घट गया। एचडीएफसी बैंक की बाजार हैसियत 16,433.92 करोड़ रुपये घटकर 7,49,880.79 करोड़ रुपये रह गई। एसबीआई की बाजार हैसियत 2,231.15 करोड़ रुपये के नुकसान के साथ 4,12,138.56 करोड़ रुपये पर आ गई। वहीं आईसीआईसीआई बैंक का बाजार मूल्यांकन 16,305.19 करोड़ रुपये घटकर 5,00,744.27 करोड़ रुपये रह गया।इस दौरान हिंदुस्तान यूनिलीवर का बाजार पूंजीकरण 21,674.98 करोड़ रुपये टूटकर 5,16,886.58 करोड़ रुपये पर आ गया। एलआईसी की बाजार हैसियत 57,272.85 करोड़ रुपये घटकर 4,48,885.09 करोड़ रुपये रह गई। एचडीएफसी के मूल्यांकन में 17,879.22 करोड़ रुपये की गिरावट आई और यह 3,95,420.14 करोड़ रुपये पर आ गया। दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल की बाजार हैसियत 7,359.31 करोड़ रुपये घटकर 3,69,613.44 करोड़ रुपये रह गई। शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर कायम रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस, हिंदुस्तान यूनिलीवर, आईसीआईसीआई बैंक , एलआईसी, एसबीआई, एचडीएफसी और भारती एयरटेल का स्थान रहा।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारयूरोप में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्‍या 40,000 के पार, प्रिंस चार्ल्स ने किया अस्थायी अस्पताल का उद्घाटन******यूरोप में कोरोना वायरस महामारी से 40,000 से अधिक लोगों की जान चली गई। इनमें से तीन चौथाई से अधिक लोग इटली, स्पेन और फ्रांस में मारे गए। एएफपी ने आधिकारिक स्रोतों के आधार पर आंकड़ा तैयार किया। उसके अनुसार यूरोप में 40,768 लोगों की इस महामारी के चलते मौत हो गई।इस वायरस के अबतक 574,525 मामले सामने आए हैं। इस महाद्वीप पर कोविड-19 की सबसे अधिक मार पड़ी है। इटली और स्पेन दुनिया में इस बीमारी से सबसे अधिक प्रभावित देश हैं। इस वायरस से इटली में अबतक 14,681 और स्पेन में 10,935 मौतें हुई हैं। फ्रांस में इस बीमारी के 5,387 मरीज अपनी जान गंवा बैठे।प्रिंस चार्ल्स ने नए अस्थायी अस्पताल का उद्घाटन कियाब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स ने कोरोना वायरस का इलाज करने के लिए पूर्वी लंदन में एक नए अस्थायी अस्पताल का वीडियो लिंक के जरिये शुक्रवार को उद्घाटन किया। कोरोना वायरस से उभरने के बाद 71 वर्षीय प्रिंस चार्ल्स ने लंदन के डॉकलैंड्स में एक्सेल कॉन्‍फ्रेंस केंद्र में कुछ दिनों के भीतर बने चार हजार बिस्तरों वाले एनएचएस नाइटिंगेल अस्पताल की वीडियो लींक के जरिये औपचारिक रूप से शुरूआत की।प्रिंस चार्ल्स ने कहा कि यह निस्संदेह काम की एक शानदार और लगभग अविश्वसनीय उपलब्धि है। हमने सुना है कि केवल नौ दिन में इतनी तीव्र गति और कौशल के साथ इस अस्पताल का निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि यह एक उदाहरण है कि कैसे असंभव को संभव बनाया जा सकता है और हम मानव इच्छा और अपनी प्रतिभा से इसे कैसे हासिल कर सकते हैं।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारराजस्‍थान के सीकर में भूकंप के हल्‍के झटके, रिक्‍टर पैमाने पर तीव्रता 4.0 आंकी गई******के सीकर जिले में आज सुबह भूकंप के हल्‍के झटके महसूस किए गए। रिक्‍टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 4.0 आंकी गई। प्राप्‍त जानकारी के अनुसार आज सुबह 5.11 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र जमीन से 10 किमी. भीतर बताया जा रहा है। भूकंप के चलते फिलहाल किसी प्रकार के नुकसान की खबर नहीं मिली है।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारMaharashtra Crisis: गवर्नर कोश्यारी से मिले Devendra Fadnavis, 30 जून को उद्धव सरकार की 'अग्निपरीक्षा'******Highlights महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच भारतीय जनता पार्टी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार की रात राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। इस दौरान फडणवीस के साथ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल, आशीष शेलार और प्रवीण दरेकर समेत कई बीजेपी नेता मौजूद थे। बीजेपी नेता राज्यपाल को सूबे के सियासी हालात के बारे में जानकारी देने गए थे। बीजेपी ने यह कहते हुए फ्लोर टेस्ट की मांग की किबागी विधायकों की सरकार से समर्थन वापसी के बाद वह अल्पमत में आ गई है। गवर्नरने ऐसे में 30 जून को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है, जिसमें उद्धव सरकार को बहुमत साबित करना होगा।बता दें कि सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री दिल्ली से आने के तुरंत बाद गवर्नर से मिलने पहुंच गये, जिससे सियासी गलियारों में अटकलों का दौर शुरू हो गया। दिल्ली में फडणवीस ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। इस दौरान मशहूर वकील महेश जेठमलानी भी उनके साथ थे। फडणवीस और शाह के बीच मुलाकात 1.5 घंटे से भी ज्यादा खिंच गई थी। दिल्ली से आने के बाद फडणवीस बीजेपी के कुछ नेताओं के साथ राजभवन पहुंच गए और राज्यपाल को सूबे के मौजूदा सियासी हालात के बारे में जानकारी देते हुए फ्लोर टेस्ट की मांग की।राज्यपाल से मिलने के बाद मीडिया से बात करते हुए देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि शिवसेना से 40 विधायक अलग हो चुके हैं, ऐसे में सरकार अल्पमत में आ गई है। फडणवीस ने कहा,'आज गवर्नर को ईमेल के माध्यम से और प्रत्यक्ष रूप से हमने पत्र दिया है। पत्र में हमने कहा है कि शिवसेना के 39 विधायक बाहर हैं, और वे लगातार कह रहे हैं कि हम कांग्रेस, NCP की सरकार में नहीं रह सकते। इसका सीधा मतलब है कि ये 39 विधायक सरकार के साथ नहीं हैं। इसलिए हमने गवर्नर को कहा है कि चूंकि सरकार अल्पमत में दिखाई दे रही है, इसलिए तुरंत सरकार को और मुख्यमंत्री को फ्लोर टेस्ट करने और अपना बहुमत सिद्ध करने का निर्देश दें।'राज्यपाल ने विधानसभा सचिव को पत्र लिखकर 30 जून को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है। पत्र में कहा गया है कि महाराष्ट्र के मौजूदा हालात के मद्देनजर 30 जून को 11 बजे विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए। ऐसे में विधानसभा में उद्धव ठाकरे सरकार को अपना बहुमत साबित करना होगा। बता दें किबीजेपी के अलावा8 निर्दलीय विधायकों ने भी गवर्नर कोश्यारी को ईमेल करके फ्लोर टेस्ट की मांग की है। वहीं, शिंदे गुट के 52 विधायक पहले ही फ्लोर टेस्ट की मांग कर चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक, अगर कोईअड़चन नहीं आती हैतो बुधवार की शाम 3-4 बजे के बाद बागी विधायक गुवाहाटी से मुंबई के लिए निकल सकते हैं।विधानसभा में सरकार और विपक्ष के समीकरणों की बात करें तो 288 सदस्यीय विधानसभा में उद्धव सरकार के साथ जहां 125 विधायक नजर आ रहे हैं, वहीं देवेंद्र फडणवीस के साथ कुल 162 विधायक दिखाई दे रहे हैं। एक विधायक की मौत होने की वजह से अभी सदन में 287 विधायक हैं। MVA गठबंधन के साथ शिवसेना के 16 (बाकी के विधायक बागी हो चुके हैं), NCP के 53, कांग्रेस के 44 और अन्य 12 मतलब कुल 125 विधायक हैं। वहीं, फडणवीस के साथ बीजेपी के 106, शिवसेना के 39 बागी, 07 निर्दलीय और अन्य 10 यानी कि कुल 162 विधायक हैं।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारMaharashtra Politics: विधानसभा में आज स्पीकर पद को लेकर होगी रस्साकशी, दोनों खेमों ने जारी किया व्हिप******महाराष्ट्र विधानसभा के दो दिन का सत्र आज से शुरू हो रहा है। सियासी घमासान के बाद अब विधानसभा में रस्साकशी और अंतर्विरोध देखने को मिल सकता है। खासकर शिवसेना पार्टी के दोनों गुट ठाकरे और शिंदे गुट ने अपना अपना व्हिप जारी कर शिवसेना के सभी 55 विधायकों को उनके समर्थक उम्मीदवार को वोट डालने और सदन में हाजिर रहने को कहा है। व्हिप का उल्लंघन करने पर विधायकों पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।आज से शुरू हो रहा दो दिन का सत्रविधानसभा में शिंदे सरकार को विश्वास मत हासिल करने के लिए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने दो दिन के लिए विशेष सत्र बुलाने का आदेश दिया है। विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव के लिए उद्धव की शिवसेना के सचेतक सुनील प्रभु ने सभी विधायकों को व्हिप जारी किया है। व्हिप में कहा गया है कि विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव 3 और 4 जुलाई के विशेष विधानसभा सत्र के दौरान किया जा रहा है। इसलिए शिवसेना के सभी सदस्य पूरे समय सदन में मौजूद रहें। शिंदे गुट के सचेतक भरत गोगावले ने भी व्हिप जारी कर सदन में उपस्थित रहने के लिए कहा है।फरवरी 2021 से खाली पड़ा है विधानसभा अध्यक्ष का पददोनों गुट शिवसेना के सभी 55 विधायकों के वोट को लेकर दावे कर रहे हैं। इस बीच शिंदे गुट के प्रवक्ता दीपक केसरकर ने कहा है कि आदित्य ठाकरे सहित उद्धव गुट के 16 विधायकों की सदस्यता खत्म नहीं की जाएगी। गौरतलब है कि फरवरी, 2021 में तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले के इस्तीफे के बाद से यह पद रिक्त है।विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव: कांग्रेस ने किया विरोधराज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के एक पत्र को आधार बनाकर कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव का विरोध किया है। कांग्रेस नेता बालासाहेब थोरात का कहना है कि अध्यक्ष का चुनाव अदालत में लंबित है। ऐसे में चुनाव कैसे कराए जा सकते हैं। जब हम सरकार में थे, तो राज्यपाल हमें महीनों तक बताते रहे कि मामला कोर्ट में है, वह स्पीकर के चुनाव की अनुमति नहीं दे सकते। फिर उन्होंने नई सरकार के लिए कैसे अनुमति दी है। वहीं शिवसेना ने प्रेस रिलीज जारी कर एकनाथ शिंदे को शिवसेना नेता पद से हटा दिया है। इस कार्रवाई का शिंदे और उनके समर्थकों ने विरोध किया है।एकनाथ शिंदे को पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाते हुए उद्धव ने हटायाशिवसेना अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाते हुए उन्हें शिवसेना नेता के पद से हटा दिया। ठाकरे ने पत्र में कहा कि शिंदे ने स्वेच्छा से पार्टी की सदस्यता छोड़ दी थी, इसलिए शिवसेना पार्टी अध्यक्ष के रूप में अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए मैं उन्हें पार्टी संगठन में शिवसेना नेता के पद से हटाता हूं।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारReliance का मार्केट कैप झटके में 1.31 लाख करोड़ बढ़ा, TCS और इन्फोसिस ने निवेशकों को कराया नुकसान******Share Marketसेंसेक्स की शीर्ष पांच कंपनियों में से तीन के बाजार मूल्यांकन (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 1,78,650.71 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई। सबसे अधिक लाभ में रिलायंस इंडस्ट्रीज रही। बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,532.77 अंक या 2.90 प्रतिशत चढ़ गया। समीक्षाधीन सप्ताह में रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और हिंदुस्तान यूनिलीवर के बाजार पूंजीकरण इजाफा हुआ। वहीं टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और इन्फोसिस का बाजार मूल्यांकन घट गया।सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 1,31,320.8 करोड़ रुपये बढ़कर 17,73,889.78 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। हिंदुस्तान यूनिलीवर का बाजार मूल्यांकन 30,814.89 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी के साथ 5,46,397.45 करोड़ रुपये रहा। इसी तरह एचडीएफसी बैंक की बाजार हैसियत 16,515.02 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 7,33,156.15 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। इस रुख के उलट टीसीएस की बाजार हैसियत 43,743.96 करोड़ रुपये घटकर 12,05,254.93 करोड़ रुपये रह गई। इन्फोसिस का मूल्यांकन 20,129.66 करोड़ रुपये के नुकसान के साथ 6,12,303.26 करोड़ रुपये पर आ गया।शीर्ष पांच कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस और हिंदुस्तान यूनिलीवर का स्थान रहा। इस बीच, देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की शेयर बाजारों में मंगलवार को कमजोर शुरुआत हुई। एलआईसी का शेयर अपने निर्गम मूल्य से करीब आठ प्रतिशत नीचे सूचीबद्ध हुआ। कारोबार के पहले दिन एलआईसी 10 सबसे मूल्यवान कंपनियों में शामिल हो गई।फिलहाल एलआईसी शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में 5,22,602.94 करोड़ रुपये के मूल्यांकन के साथ छठे स्थान पर है। बाजार मूल्यांकन के लिहाज से शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में आईसीआईसीआई बैंक 4,93,251.86 करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण के साथ सातवें, भारतीय स्टेट बैंक 4,12,763.28 करोड़ रुपये के पूंजीकरण के साथ आठवें स्थान पर है। एचडीएफसी 3,99,512.68 करोड़ रुपये के मूल्यांकन के साथ नौवें और भारती एयरटेल 3,77,686.72 करोड़ रुपये के मूल्यांकन के साथ दसवें स्थान पर है।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारChhattisgarh Assembly Elections 2018: किंग या फिर किंगमेकर भी भूमिका में हैं ये पांच दिग्‍गज****** सर पर हैं। सत्‍ता हासिल करने के लिए पार्टियों के बीच सियासी जंग शुरू हो गई है। अभी तक हुए तीनों चुनावों में राज्‍य ने और के बीच सीधी टक्‍कर देखी है। पिछली बार कांग्रेस और बीजेपी के बीच जीत हार का अंतर मात्र 1 फीसदी का था। इस बार कांग्रेस छोड़ मायावती के साथ मैदान में उतरे अजीत जोगी ने इस बार चुनावी गणित बिगाड़ दिया है। ऐसे में सभी पार्टियां अपनी दावेदारी पुख्‍ता करने के लिए अपने कद्दावर नेता पर दांव लगा रही है। आइए जानते हैं उन पांच चेहरों के बारे में जो इस चुनाव में या तो किंग या फिर किंग मेकर की भूमिका निभाएंगे।छत्‍तीसगढ़ में चाउर वाले बाबा (चावल वाले बाबा) के रूप में प्रसिद्ध रमन सिंह इस साल चौथी बार मुख्‍यमंत्री बनने की तैयारी में हैं। राज्‍य में बृजमोहन अग्रवाल जैसे जमीनी नेताओं के बावजूद एक मुख्‍यमंत्री के रूप में भाजपा के एक मात्र विकल्‍प हैं। अपनी साफ छवि और जनउपकारी नीतियों के कारण नक्‍सल क्षेत्रों में भी रमन की अच्‍छी पकड़ है। इंडिया टीवी और सीएनएक्‍स के सर्वे में भी रमन सिंह को 40 फीसदी लोगों ने अपना पहला विकल्‍प माना है।छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस के अध्‍यक्ष भूपेश बघेल को अपनी जमीनी पकड़ के चलते काफी पहचान मिली है। वे 2014 से छत्‍तीगसढ़ कांग्रेस के अध्‍यक्ष हैं और पाटन विधानसभा से विधायक हैं। राहुल की रैलियों से लेकर पार्टी के प्रत्‍याशियों तक उनका हर जगह दखल है। हालांकि उनके कार्यकाल में अजीत जोगी जैसे दिग्‍गज का अलग हो जाना उनकी नाकामियां भी दर्शाता है। लेकिन पिछले दिनों चर्चित सीडी कांड में जेल जाने के बाद से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ तेजी से चढ़ा है।अजीत जोगी छत्‍तीगसढ़ का सबसे चर्चित चेहरा है जिसे गांधी परिवार से नज़दीकी के चलते दिल्‍ली में भी अच्‍छी पहचान हासिल है। जोगी छत्‍तीसगढ़ के पहले मुख्‍यमंत्री हैं लेकिन न तो वे और न ही कांग्रेस को कभी भी छत्‍तीसगढ़ में जीत नसीब हुई है। अजीत जोगी ने अपने करियर की शुरुआत बतौर कलेक्टर की थी।1986 में उन्‍होंने कांग्रेस ज्वाइन की। 2016 में कांग्रेससे बगावत कर जोगी ने अपनी अलग पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ बनाई।मनमोहन सरकार में कृषि राज्‍य मंत्री रहे चरणदास महंत भी इस बार राज्‍य की राजनीति में दांव आजमा रहे हैं। अपने बयानों के लिए चर्चा में रहे महंत राज्‍य के जांजगीर चांपा क्षेत्र से आते हैं। इस बार पार्टी ने उन्‍हें सक्ति विधानसभा सीट से खड़ा किया है। महंत 1998 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए थे। उसके बाद से वे 3 बार सांसद रहे। इस बार के चुनावों में पार्टी स्‍तर पर उन्‍हें कई महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारियां दी गई हैं।छत्‍तीसगढ़ की मौजूदा रमन सरकार में नंबर 2 का ओहदा रखने वाले बृजमोहन अग्रवाल खांटी जमीनी नेता हैं। अग्रवाल समाज से आने के चलते व्‍यापारी समुदाय में उनका काफी दबदबा है। मध्‍य प्रदेश के समय से विधानसभा सदस्‍य रहे अग्रवाल की भाजपा संगठन में भी अच्‍छी पकड़ है। उन्‍हें पक्ष-विपक्ष से लेकर बूथ मैनेजमेंट में भी महाराथ हासिल है।छत्‍तीसगढ़ मेंचुनावकेदोनोंचरण 20नवंबरतक खत्म हो जाएंगे।लेकिनमतगणनाके लिएयहांकेलोगोंकोकरीबतीन हफ्तेइंतजारकरनाहोगा। शेष चार राज्‍यों मेंमतदानप्रक्रिया समाप्‍तहोनेके बाद 11दिसंबरकोमतोंकीगणनाकी जाएगी।चुनावआयोगने 5 राज्योंयानिमध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़,तेलंगानाऔरमिजोरममेंचुनावकीतारीखोंकाऐलानकरदियाहै। 5 राज्यों केविधानसभाचुनावोंको 2019 केलोकसभाचुनावोंके लिएकाफीमहत्वपूर्णमानाजा रहा है। 5 राज्यों में 12नवंबरसेलेकर7दिसंबरकेदौरानमतदानहोगाऔरवोटोंकीगिनती11दिसंबरको होगी। इन 5 राज्यों में सेफिलहाल3 राज्योंयानिमध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान मेंभारतीयजनतापार्टी कीसरकारहैजबकितेलंगानामेंटीआरएसऔरमिजोरममें कांग्रेस कीसरकारहै।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारकोरोना के साइड इफेक्ट्स नहीं हो रहे हैं खत्म? स्वामी रामदेव से जानिए कैसे करें रिकवरी******Highlightsएम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया के मुताबिक देश में कोरोना की तीसरी लहर आने के चांसेस ना के बराबर हैं। डॉ. गुलेरिया के मुताबिक हर बीतते दिन के साथ वायरस के तीसरे अटैक की संभावना खत्म होती जा रही है। हालांकि रशिया और बेलारूस जैसे देशों में वायरस लगातार तबाही मचा रहा है। ऑस्ट्रिया में कोरोना को रोकने के लिए फिर से लॉकडाउन लगा दिया गया है।भारत में कोरोना के कम होते केस राहत की बात है, लेकिन राहत उनको अभी भी नहीं मिली है, जो कोरोना से जंग लड़ चुके हैं। दरअसल, कोरोना की सेकंड वेव को खत्म हुए भले ही 5 महीने बीत चुके हैं, लेकिन महीनों बाद भी लोगों को खांसी, सांस लेने में तकलीफ और सीने में भारीपन बना हुआ है।कोरोना के बाद बिना किसी लक्षण या वॉर्निंग के हार्ट अटैक के मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं। BHU की स्टडी की मानें तो देश में हार्ट प्रॉब्ल्म्स लेकर आने वाले नए मरीज़ों की तादात बढ़ी है और ऐसे मरीज़ों में ज्यादातर की कोविड हिस्ट्री रही है।कोविड के बाद आई बीमारियों की लिस्ट यहीं खत्म नहीं होती। नर्व्स से जुड़ी परेशानियां, शुगर लेवल बढ़ना और याददाश्त कमजोर होने के मामले हर दिन रिपोर्ट हो रहे हैं। तो ऐसे में क्या करें कि कोरोना के साइड इफेक्ट तो खत्म हो ही, जो नुकसान सेहत को पहुंचा है, उसकी भी रिकवरी हो सके। इसका जवाब है योग। स्वामी रामदेव से जानिए योगाभ्यासों, आयुर्वेदिक उपायों के बारे में।हरी सब्जियां खाएंआंवला-एलोवेरा का जूस पीएंटमाटर का सूप पीएंहीमोग्लोबिन बढ़ेगाथकान दूर होगीखजूर खाएंअंजीर-मुन्नका रोज़ खाएंदूध के साथ केले खाएंदही के साथ दोपहर में केले खाएंरोज़ करें प्राणायामगर्म पानी पीएंतुलसी उबालकर पीएंश्वासारि-गिलोय पीएंठंडा पानी ना लेंदही-छाछ ना खाएंतले-भुने खाने से बचें15 मिनट सूक्ष्म व्यायाम करेंरोज सुबह लौकी का जूस पीएंतले-भुने खाने से बचेंस्मोकिंग बिल्कुल ना करेंअर्जुन की छाल का काढ़ा पीएंखीरा-करेला-टमाटर का जूस लेंगिलोय का काढ़ा पीएंमंडूकासन- शशकासन फायदेमंद15 मिनट कपालभाति करेंनीम के पत्तों का रस 1 चम्मच पीएंपीपल के पत्तों का रस 1 चम्मच लेंडाइट में प्रोटीन कम करेंनमक कम खाएंकुलथ की दाल खाएंपत्थर चट्टा के 3-4 पत्ते खाएंसिर्फ गर्म पानी पीएंसुबह खाली पेट नींबू-पानी लेंलौकी का सूप-जूस,लौकी की सब्जी खाएंअनाज और चावल कम कर देंसलाद खाएंखाने के 1 घंटे बाद पानी पीएंआंवला, एलोवेरा, व्हीटग्रास का जूस लेंबालों में एलोवेरा लगाएंनारियल तेल में करी पत्ता पकाकर लगाएंबालों की जड़ों में प्याज का रस लगाएंशीर्षासन जरूर करेंबॉडी में एनर्जी आती हैवजन कम करने में मददगारशरीर मजबूत बनता हैबॉडी फ्लेक्सिबल बनती हैहाथ-पैर मजबूत होते हैंकिडनी को स्वस्थ बनाता हैमोटापा दूर करने में सहायकशरीर का पोश्चर सुधरता हैपाचन प्रणाली को ठीक होती हैटखने के दर्द को दूर भगाता हैकिडनी को स्वस्थ बनाता हैलिवर से जुड़ी दिक्कत दूर होती हैतनाव, चिंता, डिप्रेशन दूर करता हैकमर का निचला हिस्सा मजबूत होता हैफेफड़ों, कंधों, सीने को स्ट्रेच करता हैरीढ़ की हड्डी मजबूत होती हैछाती चौड़ी होती हैफेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ती हैपीठ, बांहों को मजबूत बनाता हैरीढ़ की हड्डी मजबूत होती हैशरीर को लचकदार बनाता हैसीने को चौड़ा करने में सहायकशरीर के पॉश्चर को सुधारता हैडायबिटीज को दूर करता हैपेट और दिल के लिए भी लाभकारीपाचन तंत्र सही होता हैलिवर और किडनी को स्वस्थ रखता हैकब्ज की समस्या दूर होती हैगैस से छुटकारा मिलता हैपाचन की परेशानी दूर होती हैछोटी-बड़ी आंते सक्रिय होती हैंपेट पर पड़ने वाला दबाव फायदेमंदकैंसर की रोकथाम में कारगरपेट की कई समस्याओं में राहतपाचन क्रिया ठीक रहती हैकब्ज ठीक होती हैफेफड़े स्वस्थ और मजबूत रहते हैंअस्थमा, साइनस में लाभकारीकिडनी को स्वस्थ रखता हैबीपी कंट्रोल करता हैपेट की चर्बी को दूर करता हैमोटापा कम करने में मददगारदिल को सेहतमंद रखता हैपैरों के दर्द में आराम मिलता हैपैरों में सूजन दूर होती हैशुगर के मरीजों के लिए फायदेमंदतनाव और चिंता से मुक्ति मिलती हैदिल तक शुद्ध रक्त पहुंचता हैएकाग्रता बढ़ाने में मदद मिलती हैयाद की हुई चीजें भूलते नहींशीर्षासन से डिप्रेशन दूर होता हैचेहरे में चमक आती है, सुंदरता बढ़ती हैत्वचा मुलायम और खूबसूरत बनती हैमानसिक शांति और स्मरण शक्ति बढ़ती हैदिमाग में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाता हैआंखों की रोशनी बढ़ाने में कारगरनाक और सीने की समस्या दूर होती हैतनाव और चिंता दूर होती हैवजन घटाने के लिए बहुत कारगरदिल को स्वस्थ रखने में सहायकअस्थमा के रोग को दूर करता हैबंद नाक खुल जाती हैफेफड़ों को अधिक ऑक्सीजन मिलती हैएलर्जी से हो रहा स्ट्रेस खत्म करता हैदिन में दो बार 7-8 मिनट अभ्यास करेंसांस को नाक पर प्रेशर डालते हुए छोड़ा जाता हैबंद सांस नली कपालभाति से खुल जाती हैसांस का लेना आसान हो जाता हैनर्व मजबूत, शरीर के ब्लड फ्लो में सुधारदिमाग को शांत करता हैशरीर में गर्माहट आती हैध्यान लगाने की क्षमता बढ़ती हैहृदय के रोगों में फायदेमंदतनाव और चिंता दूर होती हैवजन घटाने में मदद करता हैनर्वस सिस्टम को ठीक रखता हैमेमोरी पावर बढ़ाने में सहायकचेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारतबलीगी जमात पर कार्रवाही के बाद लगे अल्पसंख्यक विरोधी आरोपों का योगी आदित्यनाथ ने दिया जवाब******लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इंडिया टीवी से खास बातचीत मेंतबलीगी जमात पर कार्रवाई करने पर उनके उपर लगे अल्पसंख्यक विरोधी होने के आरोपों पर कहा कि मैं राजनीति भी करूं और लोगों के कहने पर बुरा भी मानूं तो विरोधाभास होगा, अगर मैं राजनीति में हूं तो मुझे आरोप प्रत्यारोप झेलने की सामर्थ्य भी रखनी पड़ेगी। लेकिन काम वही करना है जो नियम कहेगा। अगर डिजास्टर मैनेजमेंट कुछ एडवायजरी जारी की है तो उसका पालन कराना मेरा कर्तव्य है। तब्लीगी जमात ने जो किया वह अक्षम्य अपराथ है, अगर तबलीगी जमात और मरकज से जुड़े लोगो शुरू में गलती न करते तो आज देश की इतनी स्थिति न होती, संक्रमण न्यूनतम स्तर पर होता।योगी आदित्यानाथ ने कहा कि इन्होंने इंफेक्शन छुपाया और उसको फैलाने का काम किया। ये अपराध है और लगातार शरारत करते रहे कोई थूकता रहा कोई बदत्मीजी करता रहा कोई मारपीट करता रहा को ई पुलिस पर हमला करता रहा, यह स्वीकार्य नहीं हो सकता। इसलिए भारत सरकार ने भी महामारी एक्ट में बदलाव किए और हर कोरोना वारियर को सुरक्षा दी।मुख्यमंत्री ने कहा कि मानवता की रक्षा के लिए यह कदम उठाए गए हैं। अगर कोई कहता है कि हम मजहब विरोधी हैं मत विरोधी हैं तो हमारा काम इस प्रकार की चीजों को सुनने का नहीं है, हमारा काम कानून के मुताबिक काम करना है और जो नियम हैं उसके तहत काम करना है। जब भी मानवता के हित में कोई कदम उठाने होंगे तो उनको उठाने में हम हिचकेंगे नहीं।

चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारMaharashtra News: डिप्टी सीएम बनकर असहज थे फड़णवीस, सीएम शिंदे ने बताया कैसे बनी बात******Highlights महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बीजेपी और शिंदे गुट की शिवसेना सरकार चला रही है। अब इस मामले पर सीएम एकनाथ शिंदे ने खुलकर बात की है। उन्होंने शिवसेना पर कब्जे को लेकर चल रही खींचतान के बारे में बताया। साथ ही यह भी बताया कि कैसे ​देवेंद्र फड़णवीस डिप्टी सीएम बनने को लेकर असहज हो रहे थे और बाद में कैसे बात बनी थी।चुनाव चिह्न को लेकर ठाकरे और शिंदे में मची हुई है खींचतानमहाराष्ट्र में शिंदे सरकार को बने दो माह के करीब हो चुके हैं। इस दौरान देर से ही सही, लेकिन मंत्रीमंडल का विस्तार भी हो गया है। अब शिवसेना के चुनाव चिह्न को लेकर लड़ाई चल रही है। इसी बीच महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने शिवसेना से बगावत का बचाव किया है। उन्होंने साफ कहा कि महाराष्ट्र की जनता की ओर से बीजेपी शिवसेना गठबंधन को वोट मिला था, इसलिए जनादेश का सम्मान जरूरी था।फड़णवीस का डिप्टी सीएम बनना थी महाराष्ट्र की सियासत की अहम घटनामहाराष्ट्र की सियासत में आए तूफान का सबसे नाटकीय घटनाक्रम था ​देवेंद्र फड़णवीस का सीएम बनना। ये निर्णया वाकई चौंकाने वाला था। एकनाथ शिंदे सीएम बन गए और डिप्टी सीएम देवेंद्र फड़णवीस, जिन्होंने महाराष्ट्र की सत्ता 5 साल तक चलाई। एकनाथ शिंदे का इस बारे में कहना है कि मैं खुद पहले हैरान रह गया था कि देवेंद्र फड़णवीस को डिप्टी सीएम और मुझे सीएम बनाया गया है। जब फड़णवीस ने सीएम पद के लिए मेरे नाम की घोषणा की तो वे खुश नजर आ रहे थे। लेकिन जब पार्टी ने उन्हें डिप्टी सीएम बनने को कहा तो वे शुरू में असहज दिखाई दिए। शिंदे ने कहा कि तब मैंने खुद उनसे इस असहजता को लेकर बात की थी। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि पार्टी का हाईकमान से आदेश है, उसे स्वीकार करना होगा।महाविकास अघाड़ी की सरकार में नहीं मिला सम्मान: शिंदेदेवेंद्र के अलावा महाविकास अघाड़ी यानी एमवीए की सरकार में शिवसेना के विधायकों का कोई सम्मान नहीं था। वे कहते हैं कि उस सरकार में कुछ भी सही नहीं हो रहा था। हमारे विधायकों को काम करने के लिए फंड भी नहीं मिल रहा था। कहने को हमारी पार्टी का सीएम, लेकिन सम्मान नहीं मिलता था। मैंने खुद ठाकरेजी से कहा था कि हमें उस पार्टी से हाथ मिलाना चाहिए, जिससे विचारधारा मिलती है। पर बात नहीं बन पाई।कांग्रेस से कभी गठबंधन नहीं करेंगे: सीएम एकनाथ शिंदेएकनाथ शिंदे ने कहा कि वे कभी भी भविष्य में कांग्रेस और एनसीपी से हाथ नहीं मिलाएंगे। वे बताते हैं कि बालासाहेब ने भी कहा था कि वे कांग्रेस से गठबंधन करने की बजाय अपनी दुकान बंद करना बेहतर विकल्प समझेंगे। शिंदे की मानें तो उन्होंने सिर्फ बालासाहेब की विचारधारा को ही आगे बढ़ाने का काम किया है। सीएम शिंदे ने कहा कि वे जल्दी ही सभी विधायकों के साथ अयोध्या जाएंगे। ये कोई राजनीतिक दौरा नहीं होगा। आस्था के कारण दर्शन के लिए वे अयोध्या जाएंगे।चेतेश्वरपुजाराकेलिएआयाअहमबयानधवनकीबड़ीप्रतिक्रियाभारतकीशर्मनाकहारMizoram news: मिज़ोरम में म्यांमार के 30 हज़ार से ज्यादा रिफ्यूजी, जारी किए गए पहचान पत्र******Highlights पिछले साल फरवरी में पड़ोसी देश म्यांमार में सेना द्वारा सत्ता हथियाए जाने के बाद से अब तक 11,798 बच्चे और 10,047 महिलाओं सहित म्यांमार के 30,316 नागरिकों ने मिज़ोरम के विभिन्न हिस्सों में शरण ली है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को इसकी जानकारी दी। राज्य के गृह विभाग द्वारा महीने की शुरुआत में इकट्ठा किए गए आंकड़ों का हवाला देते हुए अधिकारी ने कहा कि संकटग्रस्त देश छोड़कर मिज़ोरम आने वालों में 14 विधायक भी शामिल हैं।उन्होंने आगे बताया कि 30,316 लोगों में से 30,299 लोगों की प्रोफाइलिंग पूरी हो चुकी है। साथ ही होल्डर को रिफ्यूजी के रूप में प्रमाणित करने वाले पहचान पत्र 30 हज़ार से ज्यादा लोगों को जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि रिफ्यूजी कार्ड राज्य सरकार द्वारा जारी किया जा रहा है। इसे केवल मिज़ोरम में पहचान के उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए यह वैध दस्तावेज़ नहीं होगा। एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर पीटीआई को बताया कि ''म्यांमार के नागरिकों का लेखा जोखा रखने के लिए पहचान पत्र जारी किए जा रहे हैं। यह उन व्यक्तियों को उनसे दूर रखेगा जो निहित राजनीतिक हितों के लिए उन्हें भारत की नागरिकता देना चाहते हैं।'' प्रत्येक पहचान पत्र में कहा गया है कि वाहक म्यांमार का नागरिक है और मिज़ोरम में रह रहा है।पहचान पत्र में लिखा है, ''यह सिर्फ पहचान के लिए है और ऑफिशियल या किसी अन्य उद्देश्य की पूर्ति के लिए इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा। साथ ही यह ट्रांसफरेबल नहीं है।'' अधिकारी के मुताबिक, राज्य के विभिन्न हिस्सों में सरकारी, गैर-सरकारी संगठनों, गांव के अधिकारियों और म्यांमार के नागरिकों द्वारा कम से कम 156 अस्थायी राहत शिविर स्थापित किए गए हैं, जिसमें सियाहा जिले में अधिकतम 41 शिविर हैं, इसके बाद लॉंगतलाई में 36 और चम्फाई में 33 शिविर हैं। उन्होंने कहा कि राज्य ने अब तक 80 लाख रुपये की राहत राशि स्वीकृत की है।

पिछला:Flash Back 2017: इस साल इन महान बॉलीवुड कलाकारों का स्वास्थ्य कारणों से हुआ निधन
अगला:रोमांचक मोड़ पर पहुंचा इंग्लैंड-श्रीलंका टेस्ट मैच, इंग्लैंड को जीत के लिए 3 विकेट की जरूरत वहीं श्रीलंका को बनाने हैं 75 रन
संबंधित आलेख