मुखपृष्ठ > झोंग्ज़िआन
UPTET Result 2021: यूपी टीईटी के नतीजे कब होंगे जारी? यहां जानें चेक करने का तरीका
रिलीज़ की तारीख:2022-09-29 06:15:21
विचारों:493

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाइक्वाडोर की 3 जेलों में हुई गैंगवार में अब तक 79 कैदियों की मौत****** लैटिन अमेरिकी देश इक्वाडोर में स्थित 3 जेलों में गैंगों के बीच हुई झड़प और जेल से भागने की कोशिश में अब तक 79 कैदियों की मौत हो चुकी है। बुधवार को नेशनल सर्विस ऑफ कॉम्प्रिहेंसिव अटेंशन टू एडल्ट्स डेप्राइव्ड ऑफ लिबर्टी एंड एडोलसेंट ऑफेंडर्स (SNAI) ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि बीते कुछ घंटों में एजुए (दक्षिण), गुआस (दक्षिण पश्चिम) और कोटोपैक्सी (मध्य), इन 3 प्रांतों की जेलों में 4 अतिरिक्त कैदियों की हुई मौतों से मरने वालों की कुल संख्या में इजाफा हुआ है।जेल प्रशासन और नियंत्रण के लिए जिम्मेदार संगठन ने कहा, ‘SNAI द्वारा इस झड़प में कितने लोगों की जानें गई हैं और इस गैंगवार की वजह क्या रही है, इन सभी पहलुओं पर जानकारी एकत्रित करना जारी है।’ के बीच हुए इस भीषण ने इस दक्षिण अमेरिकी देश को झकझोर कर रख दिया है क्योंकि यहां इससे पहले जेलों में कैदियों के बीच इस तरह की अशांति देखने को नहीं मिली है। प्रारंभिक जांच के अनुसार, जेल में इस दंगे के भड़कने की मुख्य वजह दिसंबर में हुई जोर्ज लुईस जांब्रानो उर्फ 'रसक्वीना' की हत्या को माना जा रहा है, जो कि तथाकथित 'लॉस चोनरोस' गैंग का नेता था। इसे एक खतरनाक गैंग माना जाता है।राष्ट्रीय पुलिस के कमांडर पैट्रीसियो कैरिल्लो ने हिंसा की इस घटना पर शोक प्रकट करते हुए मंगलवार को ट्विटर पर किए अपने एक पोस्ट में कहा, ‘देश की जेलों में आज जिस कदर नफरत, बदले की भावना और क्रूरता की झलक देखने को मिली है, उससे न केवल संगठित अपराधों के होने का एक संदेश मिलता है, बल्कि यह सिस्टम की मनोस्थिति का भी एक सबूत है।’ SNAI ने बुधवार को कहा, ‘पुलिस के साथ संयुक्त रूप से की गई कार्रवाइयों की बदौलत तीनों प्रांतों में नजरबंदी केंद्रों पर स्थिति नियंत्रण में है।’ बता दें कि की में कुल कैदियों में से 70 फीसदी कैदी इन जेलों में हैं।

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाLatest Bollywood News Sept 1: जीवा और आहिल की मस्ती से, 'स्त्री' बॉक्स ऑफिस कलेक्शन तक******बॉलीवुड के गलियारों में आज स्त्री की कमाईसे लेकरकरण जौहर की ड्रीम गर्ल तक की खबर है। आइए आपकोबॉलीवुड की आज की अपडेट्स के बारे में बताते हैं।राजकुमार राव और श्रद्धा कपूर स्टारर 'स्त्री' को क्रिटिक्स के अच्छे रिस्पॉन्स मिलने के बाद दर्शकों की भी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। फिल्म ने पहले दिन उम्मीद से ज्यादा भारत में 6.82 करोड़ रुपये की कमाई की है। फिल्म क्रिटिक और ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। वीकेंड पर कलेक्शन के और अच्छे होने की संभावना है। जैकी भगनानी की एक फिल्म आई थी ‘फिल्मिस्तान’ जिसे नितिन कक्कर ने निर्देशित किया था, नितिन के साथ जैकी एक बार फिर से फिल्म ‘मित्रों’ में नजर आने वाले हैं। यह फिल्म गुजरात पर बेस्ड है और फिल्म का एक नया गाना आया है जो गरबा पर है। 'मित्रों' का नया गाना 'कमरिया' मॉडर्न दिनों का गरबा एंथम है जो पारंपरिक गुजराती लोक संगीत और आधुनिक फंकी बीट का एकदम सही मिश्रण पेश करता है।फिल्ममेकर करण जौहर अपनी निजी जिदंगी के बारे में हमेशा से खुलकर बोलते आए हैं। वह किसी भी मुद्दे पर बोल्ड कमेंट देने से भी नहीं हिचकिचाते। हाल ही में वह एक चैट शो में शामिल हुए, जहां उनसे पूछा गया कि मौका मिलने पर वह किस एक्ट्रेस से शादी करना चाहेंगे। इस पर करण ने कहा- करीना कपूर खान। करण और करीना एक-दूसरे के बहुत अच्छे दोस्त हैं।हाल ही में अर्पिता खान नेसलमान खान की मां सलमा खान के साथ कटरीना कैफ की तस्वीर शेयर की थी, जिसमें कटरीना उन्हें गले लगा रही थीं। जैसे ही तस्वीर वायरल हुई फैंस कहने लगे कि यह परफेक्ट ‘सास बहू’ की जोड़ी है। जल्द ही ये तस्वीर सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल गई, लेकिन अब अर्पिता ने अपने अकाउंट से यह तस्वीर ही डिलीट कर दी है।जब अर्पिता के हस्बैंड आयुष शर्मा से इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि-यह तस्वीर फिल्म ‘भारत’ के सेट से ली गई है इसलिए ऐसा हो सकता है कि फिल्म का कोई सस्पेंस ना खराब हो जाए इस वजह से यह तस्वीर डिलीट की गई हो।स्टार किड्स अक्सर अपनी क्यूट तस्वीरों से लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेते हैं। उनकी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर तुरंत वायरल हो जाती हैं। हाल ही में सलमान खान की बहन अर्पिता खान शर्मा अपने बेटे अहिल के साथ रांची में महेंद्र सिंह धोनी के घर गई थीं। वहां उनकी मुलाकात धोनी की पत्नी साक्षी सिंह धोनी और उनकी जीवा से हुई। चारों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।एकता कपूर का शो 'कसौटी जिंदगी की 2' अगले महीने ऑनएयर होगा। शो में प्रेरणा के रोल में एरिका फर्नांडिस और अनुराग के रोल में पार्थ समथान नजर आएंगे। हाल ही में श्वेता तिवारी का एक इंटरव्यू वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी बेटी पलक को 'कसौटी जिंदगी की 2' में प्रेरणा का रोल ऑफर हुआ था, लेकिन उन्होंने करने से मना कर दिया। अब इस पर एकता कपूर ने अपने ट्विटर हैंडल पर श्वेता की खबर को रीट्वीट करते हुए लिखा है- ओह वास्तव में! मुझे कैसे नहीं पता!यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीका'विक्रम वेधा' से सामने आया ऋतिक रोशन का लुक, ओरिजनल विक्रम आर माधवन ने की तारीफ़******ऋतिक रोशन आज अपना जन्मदिन मना रहे हैं, ऐसे में बहुप्रतीक्षित फ़िल्म 'विक्रम वेधा' के निर्माताओं ने एक्शन-थ्रिलर से उनका पहला लुक रिलीज़ कर दिया है जिसने इंटरनेट पर धूम मचा दी है। एक गैंगस्टर वेधा की भूमिका निभाते हुए ऋतिक रोशन के सेक्सी कुर्ता और एविएटर लुक ने फैंस को उत्साहित कर दिया है।लोग कमेंट करके ऋतिक रोशन की तारीफ कर रहे हैं और कह रहे हैं कि ऋतिक बहुत अच्छे लंगेगे फिल्म में। किसी ने उनके लुक की तारीफ की तो किसी ने लिखा कि वो फिल्म के लिए उत्साहित हैं।ओरिजिनल फ़िल्म में विक्रम की भूमिका निभाने वाले आर माधवन भी सोशल मीडिया पर कमेंट करने से खुद को रोक नहीं पाए और उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा,"अब ये है वेधा, मैं इसे देखना चाहता हूं, वाव भाई... ये एपिक है... डैम।''पिछले साल के अंत में सुपरस्टार ने उस वक़्त इंटरनेट पर तहलका मचा दिया जब उन्होंने महामारी के बाद सेट पर अपनी वापसी की घोषणा करते हुए अपनी टीम के साथ सेट पर स्लो-मोशन में हीरो स्टाइल में एंट्री लेते हुए खुद का एक वीडियो शेयर किया था।

UPTET Result 2021: यूपी टीईटी के नतीजे कब होंगे जारी? यहां जानें चेक करने का तरीका

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाथायराइड के मरीज डाइट में शामिल करें ये 5 जीजें, जल्द दिखेगा असर******Highlightsआजकल एक आम समस्या बन गई है। पुरुषों की अपेक्षा अधिकतर महिलाएं इस समस्या से जूझ रही हैं। थायराइड, शरीर में आयोडीन की कमी से होने वाली एक ऐसी बीमारी है जिसके लिए इलाज के साथ-साथ सही खानपान का भी होना जरूरी है। इसके अलावा अधिक मात्रा में दवाइयों का सेवन करने से हाई बीपी या लो बीपी की वजह से भी थायराइड हो सकता है। अगर समय रहते थायराइड को कंट्रोल ना किया जाए तो इससे कई अन्य बीमारियां जन्म लेने लगती हैं। साथ ही अस्थमा, कोलेस्ट्रॉल की समस्या, डिप्रेशन, डायबिटीज और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कुछ घरेलू नुस्खों जिसका सेवन कर आपको इस समस्या में आराम मिल सकता है।सेब सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। लोग इसे खाना भी खूब पसंद करते हैं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से थायराइड ग्लैंड को मैनेज करने में मदद करता है साथ ही वजन को भी कंट्रोल किया जा सकता है। इसलिए रोजाना एक सेब जरूर खाएं इससे थायराइड कंट्रोल में रहेगा।थायराइड पेशेंट के लिए अदरक एक अच्छा ऑप्शन है। इसमें पोटेशियम और मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो थायराइड की समस्या में राहत दिलाने में मददगार हैं। साथ ही इसमें एंटी इंफलेमेटरी गुण होते हैं जो कि थायराइड को कंट्रोल में रखते हैं।औषधीय गुणोंसे भरपूर मुलेठी भी थायराइड को बढ़ने से रोकती है। आमतौर पर थायराइड के मरीज बहुत जल्दी थक जाते हैं। ऐसे में आप मुलेठी का सेवन कर सकते हैं।अगर आप थायराइड की समस्या से पीड़ित हैं तो इसमें अश्वगंधा आपकी मदद कर सकता है। यह थायराइड की समस्या को कंट्रोल करने में कारगर है। आप इसे दूध में मिलाकर पी सकते हैं। आप चाहें तो इसके जड़ को पानी में उबालकर भी पी सकते हैं।तुलसी का पत्‍ता सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है। खासकर थायराइड मरीजों के लिए तुलसी काफी फायदेमंद होती है। साथ ही यह ना केवल सर्दी खांसी से दूर रखता है बल्कि कई बीमारियों से भी बचाता है। आप इसे 2 चम्मच तुलसी के रस में एलोवेरा का जूस मिलाकर इसका सेवन करें। इससे आपको राहत मिलेगी।यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाMaharashtra Political Crisis: शिवसेना के 56 साल के इतिहास में चौथी बार हुई बगावत, पहली बार चक्रव्यूह में फंसे उद्धव******Highlightsमहाराष्ट्र की सियासत में पिछले कुछ घंटों से जबर्दस्त हलचल मची हुई है। महा विकास अघाड़ी गठबंधन की सरकार पर लगातार खतरा मंडरा रहा है और सीएम उद्धव ठाकरे बागियों को मनाने की हरसंभव कोशिश करते नजर आ रहे हैं। शिवसेना को एक ऐसी पार्टी के रूप में जाना जाता है, जिसका काडर अपने नेतृत्व के प्रति प्रतिबद्ध होता है, लेकिन फिर भी कई मौकों पर इसे बगावत का सामना करना पड़ा है। पार्टी के 56 सालों के इतिहास में यह चौथा मौका है जब इसे अपने प्रमुख पदाधिकारियों की ओर से बगावत का सामना करना पड़ा है।उद्धव ठाकरे पहली बार पार्टी में बगावत का सामना कर रहे हैं, जबकि इससे पहले 3 बार शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के सामने बगावत हुई है। ताजा बगावत शिवसेना नेता और उद्धव के करीबी माने जाने वाले एकनाथ शिंदे ने की है। शिंदे की बगावत इसलिए खास है क्योंकि इससे राज्य में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में चल रही महा विकास अघाड़ी की सरकार गिरने का खतरा पैदा हो गया है। इससे पहले शिवसेना में जब भी बगावत हुई थी, पार्टी सत्ता में नहीं थी।शिवसेना में पहली बड़ी बगावत 1991 में हुई थी। उस समय शिवसेना की कमान बाल ठाकरे के हाथों में थी। पार्टी का ओबीसी चेहरा रहे छगन भुजबल ने शिवसेना छोड़ने का फैसला कर लिया था। वह भुजबल ही थे जिन्होंने ग्रामीण इलाकों में शिवसेना का विस्तार किया था। उन्होंने कहा था कि पार्टी नेतृत्व ने उनके काम की तारीफ नहीं की, इसलिए वह शिवसेना छोड़ रहे हैं। भुजबल ने शिवसेना को महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में बड़ी संख्या में सीटें जीतने में मदद की थी, लेकिन उसके बावजूद बाल ठाकरे ने मनोहर जोशी को विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में नियुक्त कर दिया था।भुजबल ने नागपुर में चल रहे शीतकालीन सत्र के दौरान शिवसेना के 18 विधायकों के साथ पार्टी छोड़ दी थी। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस को अपना समर्थन देने की घोषणा की थी, जो उस समय राज्य में शासन कर रही थी। हालांकि जिन 18 विधायकों ने भुजबल के साथ पार्टी छोड़ी थी, उनमें से 12 बागी विधायक उसी दिन शिवसेना में लौट आए थे। भुजबल और बाकी के बागी विधायकों को तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष ने एक अलग गुट के रूप में मान्यता दे दी थी और उन्हें किसी भी कार्रवाई का सामना नहीं करना पड़ा था।भुजबल इसके बाद 1995 का विधानसभा चुनाव लड़े और उन्हें मुंबई से तत्कालीन शिवसेना नेता बाला नंदगांवकर ने हरा दिया था। महाराष्ट्र कि सियासत का यह दिग्गज खिलाड़ी बाद में शरद पवार की अगुवाई वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गया। पवार ने 1999 में कांग्रेस से अलग होने के बाद यह पार्टी बनाई थी। 74 साल के भुजबल फिलहाल शिवसेना के नेतृत्व वाली एमवीए सरकार में मंत्री और शिंदे के कैबिनेट सहयोगी हैं।भुजबल के बाद शिवसेना को अगला बड़ा झटका 2005 में लगा था। उस समय पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने शिवसेना का साथ छोड़ दिया था और कांग्रेस में शामिल हो गए थे। राणे ने बाद में कांग्रेस भी छोड़ दी और इस समय वह न सिर्फ भारतीय जनत पार्टी से राज्यसभा सदस्य हैं बल्कि केंद्र सरकार में मंत्री भी हैं। राणे को भी की सियासत का पक्का खिलाड़ी माना जाता है, और पिछले कुछ समय से वह शिवसेना पर लगातार हमला बोलते आए हैं। को तीसरा झटका 2006 में लगा जब उद्धव ठाकरे के चचेरे भाई राज ठाकरे ने पार्टी छोड़कर खुद का दल बनाने का फैसला किया। इस नई पार्टी का नाम उन्होंने महराष्ट्र नवनिर्माण सेना रखा। राज ठाकरे ने तब कहा था कि उनकी लड़ाई शिवसेना नेतृत्व के साथ नहीं, बल्कि पार्टी नेतृत्व के आसपास के अन्य लोगों के साथ है। 2009 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने महाराष्ट्र विधानसभा की 288 में से 13 सीटें जीती थीं, जबकि मुंबई में इसकी संख्या शिवसेना से एक अधिक थी। हालांकि बाद में उनकी पार्टी अपना असर खोती गई।शिवसेना इस समय राज्य के वरिष्ठ मंत्री, ठाणे जिले से 4 बार विधायक रहे और संगठन में लोकप्रिय एकनाथ शिंदे की बगावत का सामना कर रही है। शिंदे की बगावत इसलिए भी बड़ी है क्योंकि पार्टी के अधिकांश विधायक के साथ न होकर उनके साथ नजर आ रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, शिंदे के साथ कुल मिलाकर 42 विधायक हैं और इसमें अभी इजाफा होने की उम्मीद है। गुवाहाटी के होटल में बुधवार की शाम को 4 और विधायकों के पहुंचने के बाद उद्धव सरकार के टिके रहने उम्मीदें क्षीण होती जा रही हैं।महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में शिवसेना के पास फिलहाल 55 सीटें है, जबकि NCP के पास 53 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं। ये तीनों एमवीए गठबंधन की सबसे बड़ी पार्टियां हैं। वहीं, विधानसभा में विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के पास 106 सीटें हैं। शिंदे ने दावा किया है कि शिवसेना के 46 विधायक उनके साथ हैं। इनमें से कुछ विधायकों के साथ वह गुवाहाटी के होटल में बेफिक्र नजर आए। बता दें कि दलबदल रोधी कानून के तहत अयोग्यता से बचने के लिए शिंदे को 37 विधायकों के समर्थन की जरूरत है।यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाखाद्य कीमतों में कमी से महंगाई दर में राहत, 6 महीने के निचले स्तर पर पहुंची थोक महंगाई दर******लगातार छठे महीने थोक महंगाई दर 10 प्रतिशत से ऊपरनई दिल्ली। थोक कीमतों पर आधारित महंगाई दर 6 महीने के निचले स्तर पर आ गयी है। आज जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक सितंबर में थोक महंगाई दर घटकर 10.66 प्रतिशत पर रही। गिरावट खाद्य कीमतों में आई कमी की वजह से रही है, हालांकि इस दौरान तेल कीमतों में बढ़त देखने को मिली है। वहीं दूसरी तरफ सब्जियों की कीमतों ने थोड़ी राहत दी है। इससे पहले आये आंकड़ों के मुताबिक सितंबर में खुदरा महंगाई दर घटकर 4.35 प्रतिशत पर आ गयी।आंकड़ों के मुताबिक थोक कीमतों पर आधारिक महंगाई दर अगस्त में 11.39 प्रतिशत थी, जबकि सितंबर 2020 में थोक कीमतों पर आधारित महंगाई दर 1.32 फीसदी थी। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘पिछले वर्ष के इसी महीने के मुकाबले सितंबर 2021 में मुद्रास्फीति की उच्च दर मुख्य रूप से खनिज तेलों, बेस मेटल्स, गैर-खाद्य वस्तुओं, खाद्य उत्पादों, कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस, रसायनों और रासायनिक उत्पादों आदि की कीमतों में वृद्धि के कारण है।’’ हालांकि दूसरी तरफ खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति में लगातार पांचवें महीने कमी हुई। इस दौरान सब्जियां सस्ती हुईं, हालांकि दलहन में तेज बनी रहीं। ईंधन और बिजली की मुद्रास्फीति सितंबर में 24.91 प्रतिशत थी, जो इससे पिछले महीने 26.09 प्रतिशत थी। कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस की कीमतों में सितंबर में 43.92 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जो इससे पिछले महीने में 40.03 प्रतिशत थी। विनिर्मित उत्पादों की मुद्रास्फीति इस दौरान 11.41 प्रतिशत रही।खाद्य वस्तुओं के दाम कम होने से खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर महीने में घटकर 4.35 प्रतिशत पर आ गयी। मंगलवार को जारी सरकारी आंकड़े के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में 5.30 प्रतिशत तथा सितंबर, 2020 में 7.27 प्रतिशत थी। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के आंकड़ों के अनुसार, खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर इस साल सितंबर में नरम होकर 0.68 प्रतिशत रही। यह पिछले महीने 3.11 प्रतिशत के मुकाबले काफी कम है। भारतीय रिजर्व बैंक द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा पर विचार करते समय मुख्य रूप से उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर पर गौर करता है। सरकार ने केंद्रीय बैंक को 2 प्रतिशत घट-बढ़ के साथ खुदरा मुद्रास्फीति को 4 प्रतिशत पर बरकरार रखने की जिम्मेदारी दी हुई है। आरबीआई ने 2021-22 के लिये सीपीआई आधारित मुद्रास्फीति 5.3 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में संतुलित जोखिम के साथ इसके 5.1 प्रतिशत, तीसरी तिमाही में 4.5 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 5.8 प्रतिशत रहने का अनुमान रखा गया है।

UPTET Result 2021: यूपी टीईटी के नतीजे कब होंगे जारी? यहां जानें चेक करने का तरीका

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाAshok Gehlot ने वकीलों की ज्यादा फीस पर जताई चिंता, जजों पर कहा- फेस वैल्यू पर फैसला सुनाएंगे तो आदमी कहां जाएगा******Highlights राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट्स के वकीलों की ‘बहुत ज्यादा’ फीस पर चिंता जताई। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कई जज फेस वेल्यू को देखते हुए अपना फैसला सुनाते हैं। गहलोत ने यह बात राजस्थान की राजधानी जयपुर में आयोजित राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (National Legal Services Authority) के राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही, जिसमें भारत के चीफ जस्टिस एन.वी. रमण भी मौजूद थे।खास बात यह है कि केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने गहलोत का समर्थन किया और कहा, ‘जो अमीर हैं, उन्हें पैसे देकर अच्छे वकील मिलते हैं। आज सुप्रीम कोर्ट में कई वकील हैं जिन्हें आम आदमी अफॉर्ड नहीं कर सकता।’ NALS का राष्ट्रीय सम्मेलन शनिवार को जयपुर में हुआ जिसमें सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के वकीलों की महंगी फीस के मुद्दे पर चर्चा हुई। गहलोत और रिजिजू ने एक स्वर में वकीलों की महंगी फीस पर चिंता जताई।जयपुर एग्जिबिशन एंड कन्वेंशन सेंटर (JECC) में शनिवार को मौजूद CJI और देशभर के हाईकोर्ट के जजों की मौजूदगी में गहलोत ने मोटी फीस को लेकर वकीलों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘गरीब आदमी आज सुप्रीम कोर्ट नहीं जा सकता। इसे कौन ठीक कर सकता है? यह समझ से परे है। फीस की सीमा तय करने की जरूरत है। 1 करोड़, 80 लाख, 50 लाख..पता नहीं देश में क्या हो रहा है। मैंने एक बार यह मुद्दा उठाया था। इस स्थिति के बारे में भी सोचें। एक समिति बनाएं। कोई रास्ता होना चाहिए।’ ने कहा, ‘अगर जज भी फेस वेल्यू देखकर अपना फैसला सुनाते हैं, तो आदमी क्या करेगा? अगर ऐसा कोई विशेष व्यक्ति एक वकील को खड़ा करता है, तो जज प्रभावित होंगे। अगर ऐसा है तो आपको भी यह समझना होगा। संविधान की रक्षा करना हम सबका कर्तव्य है।’ वहीं, ने कहा, ‘अगर एक वकील हर मामले में सुनवाई के लिए 10 से 15 लाख रुपये लेता है, तो आम आदमी को वह कहां से मिलेगा। कोई अदालत केवल रसूख वाले लोगों के लिए नहीं होनी चाहिए। न्याय का द्वार हमेशा सबके लिए समान रूप से खुला होना चाहिए।’यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीका1.0 लीटर इंजन वाली रेडी गो लाने की तैयारी में डैटसन, अगले महीने हो सकती है लॉन्‍च******यह भी माना जा रहा है कि कीमत के मामले में 1.0 लीटर वर्जन 800 सीसी वर्जन से 30 से 40 हज़ार रुपये महंगा हो सकता है। फिलहाल, डैटसन रेडी गो की दिल्ली में एक्स-शोरूम कीमत 2.38 लाख रुपये से लेकर 3.34 लाख रुपये के बीच है।

UPTET Result 2021: यूपी टीईटी के नतीजे कब होंगे जारी? यहां जानें चेक करने का तरीका

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाAbu Dhabi T10 League: SRH के इस खिलाड़ी को बनाया गया आइकॉन प्लेयर, इस टीम के लिए मचाएगा धूम******Highlightsइस साल का अबु धाबी टी10 लीग 23 सितंबर से खेला जाएगा। इस टूर्नामेंट में कई स्टार खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। कुछ ही दिन पहले युवराज को टी10 की टीम न्यू यॉर्क स्ट्राइकर का मेंटर बनाया गया था। अब तक इस टूर्नामेंट का पांच सीजन हो चुके हैं। पांचों सीजन बेहद सफल रहे हैं। अब डेक्कन ग्लेडिएटर्स ने वेस्टइंडीज के कप्तान निकोलस पूरन को लेकर बड़ा फैसला लिया है।निकोलस पूरन को रविवार को अबु धाबी टी10 प्रतियोगिता के छठे सीजन से पहले गत चैंपियन डेक्कन ग्लेडिएटर्स के लिए नया आइकॉन प्लेयर घोषित किया है। पूरन 23 नवंबर से 4 दिसंबर तक होने वाले टूर्नामेंट के छठे सीजन के लिए वेस्टइंडीज टीम के अपने साथी आलराउंडर आंद्रे रसेल और ओडियन स्मिथ के साथ जुड़ गए हैं। पूरन को कप्तान के रूप में व्यापक अनुभव हैं और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि वह एक आक्रामक बल्लेबाज के साथ अच्छे विकेटकीपर भी हैं।पूरन ने घोषणा पर कहा, "मैं आने वाले सीजन के लिए डेक्कन ग्लेडिएटर्स का हिस्सा बनने के लिए काफी उत्साहित हूं। मैं आइकन प्लेयर चुने जाने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूं और टीम प्रबंधन ने जो विश्वास दिखाया है और उम्मीद के मुताबिक मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूंगा। एक टीम के रूप हम एक रोमांचक सीजन की प्रतीक्षा कर रहे हैं।"पूरन 2019 से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में नियमित हैं और इस साल की शुरूआत में आईपीएल 2022 में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हुए अपनी शैली से सभी का ध्यान आकर्षित किया था। आईपीएल के अलावा, पूरन पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल), बांग्लादेश प्रीमियर लीग (बीपीएल) और कैरेबियन प्रीमियर लीग (सीपीएल) में एक स्टार खिलाड़ी रहे हैं।जब अबु धाबी टी10 प्रतियोगिता की बात आती है, तो पूरन का एक शानदार ट्रैक रिकॉर्ड है, क्योंकि उन्होंने 2020 में नॉर्दन वारियर्स का अपने दूसरे खिताब के लिए नेतृत्व किया था। टी20 में 130.77 की वर्तमान स्ट्राइक रेट के साथ, पूरन सबसे आक्रामक बल्लेबाजों में से एक हैं। ग्लेडियेटर्स ने पहले ही इस सीजन के लिए रसेल, स्मिथ, टॉम कोहलर-कैडमोर, जहूर खान और डेविड विसे को रिटेन कर लिया है।

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाचालू वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही में 11% घटी घरों की बिक्री, आगे मांग बढ़ने की है उम्मीद******Housing sales down 11 pc in Q1, demand to rise on tax sopsवित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में देश के प्रमुख नौ शहरों में 11 प्रतिशत कम रही है। इस दौरान इन नौ शहरों में करीब 72 हजार आवासीय इकाइयां बिकी हैं। एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है। प्रॉपर्टी ब्रोकरेज कंपनी प्रॉपटाइगर ने एक रिपोर्ट में कहा है कि बजट में किफायती आवास के लिए अतिरिक्त कर राहत तथा केंद्र सरकार में राजनीतिक स्थिरता के कारण आने वाले समय में मांग में तेजी देखने को मिल सकती है। यह रिपोर्ट नौ शहरों अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, गुरुग्राम, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई, नोएडा और पुणे के आंकड़ों पर आधारित है।रिपोर्ट के अनुसार, नकदी संकट तथा चुनाव के कारण इन शहरों में नई आवासीय इकाइयों की आपूर्ति 47 प्रतिशत गिरकर 37,852 इकाइयों पर आ गई है।प्रॉपटाइगर, हाउसिंग डॉट कॉम और मकान डॉट कॉम के ग्रुप सीईओ ध्रुव अग्रवाल ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बिक्री और पेशकश दोनों में गिरावट देखने को मिली है। हालांकि आने वाले समय के लिए परिदृश्य सकारात्मक है। केंद्र में स्थिर सरकार तथा बजट में आवासीय रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए प्रोत्साहन की घोषणा उत्प्रेरक का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि आलोच्य तिमाही के दौरान तीनों पोर्टलों पर ट्रैफिक बढ़ा है। इससे पता चलता है कि लोग चुनाव के कारण रुककर स्थिति का आकलन कर रहे थे।यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाIndependence Day 2022: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इन देशभक्ति भरे मैसेज और तस्वीरों के जरिए भेजें शुभकामनाएं******15 अगस्त 1947 को हिन्दुस्तान अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था। जिसके बाद से हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इस साल आजादी का अमृत महोत्सव के नाम से स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाया जा रहा है। वहीं भारत सरकार ने 'हर घर तिरंगा अभियान' की घोषणा की और सभी देशवासियों से अपने-अपने घरों में राष्ट्रीय ध्वज फहराने का आग्रह किया। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी से अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल तस्वीर को तिरंगे में बदलने का भी आग्रह किया।ऐसे में आजादी के इस खास मौके पर अगर आप अपने प्रियजनों को बेहतरीन देशभक्ति शुभकामनाएं भेजना चाहते हैं तो फिर ये खबर आपके लिए है क्योंकि आज हम आपके लिए देशभक्ति संदेश लेकर आए हैं। आइए जानते हैं।दे सलामी इस तिरंगे को,जिस से तेरी शान है,सिर हमेशा ऊंचा रखना इसकाजब तक दिन में जान हैं..!!जय हिंदगंगा, यमुना, यहां नर्मदा,मंदिर, मस्जिद के संग गिरजा,शांति प्रेम की देता शिक्षा,मेरा भारत सदा सर्वदा।स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएंमैं अपनी मातृभूमि भारत को सलाम करता हूं,आज मैं जो भी हूं,जहां भी हूं,इसी की वजह से हूं।आइए हम अपने प्यारे देश के लिए कुछ करने का संकल्प लें।काले गोरे का भेद नहीं,इस दिल से हमारा नाता है,कुछ और न आता हो हमको,हमें प्यार निभाना आता है।Happy Independence Dayआन देश की शान देश की,देश की हम संतान हैं,तीन रंगों से रंगा तिरंगा,अपनी ये पहचान है।स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!विकसित होता राष्ट्र हमारा,रंग लाती हर क़ुर्बानी है,फक्र से अपना परिचय देते,हम सारे हिंदुस्तानी है।जब आंख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो,जब आंख बंद हो तो यादें हिन्दुस्तान की हो,हम मर भी जाए तो कोई गम नही, लेकिन मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकारिलायंस जियो को टक्कर देगी बीएसएनएल, जनवरी से मिलेगी फ्री वॉयस कॉलिंग की सुविधा******बीएसएनएल के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अनुपम श्रीवास्तव इस महीने के शुरुआत में कहा था, “अगर रिलायंस जियो के साथ सबसे कुछ सही रहा, तो बीएसएनएल फ्री वॉयस सर्विस शुरू कर सकती है। शुक्रवार को श्रीवास्तव ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में एस बात की दोबारा पुष्टी की है।GoAir 601श्रीवास्तव ने कहा, “हम सिर्फ 2 से 4 रुपए का प्लान लेकर आएंगे, जो रिलायंस जियो से भी सस्ता होगा.” अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी जनवरी से जीरो वॉयस टैरिफ प्लान लॉन्च कर सकती है। इसकी शुरुआती कीमत 149 रुपए होने की खबर है, जो रिलायंस जियो से भी कम है।यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाHimanta Sarma vs Kejriwal: "मैं 40 हजार स्कूल चलाता हूं और वे केवल 1200," केजरीवाल और असम सीएम के बीच नहीं थम रही ट्विटर वॉर******Highlightsदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और असम के सीएम हिमंत विश्व शर्मा के बीच ट्विटर पर जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। केजरीवाल ने शर्मा पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर पूर्वोत्तर राज्य में स्कूल ‘‘अच्छे नहीं’’ हैं तो ‘‘हम मिलकर उन्हें ठीक कर सकते हैं।’’ दोनों नेताओं के बीच सोशल मीडिया मंच पर वर्ड-वॉर बुधवार को तब शुरू हुआ था जब केजरीवाल ने ट्वीट किया कि स्कूलों को बंद करना कोई समाधान नहीं है और देशभर में और स्कूल खोलने की आवश्यकता है। उन्होंने एक खबर का लिंक साझा किया था जिसमें दावा किया गया था कि असम में कुछ स्कूल ‘‘बंद’’ हो गए हैं।असम के सीएम हिमंत विश्व शर्मा ने रविवार को ट्विटर पर केजरीवाल से पूछा कि दिल्ली को लंदन और पेरिस बनाने के उनके वादे का क्या हुआ। उन्होंने कहा, “जब आप कुछ कर नहीं सके तब आपने दिल्ली की तुलना असम और पूर्वोत्तर राज्यों से करनी शुरू कर दी।” शर्मा ने कहा कि जब भाजपा दिल्ली जैसे शहर में सत्ता में आएगी तो वह उसे दुनिया का सबसे समृद्ध नगर बनाएगी। केजरीवाल के असम दौरे की खबरों पर शर्मा ने कहा, “मुझे दुख है कि आपके मन में असम आने की इच्छा तब पैदा नहीं हुई जब असम के लोग बाढ़ जैसी आपदा से जूझ रहे थे।”शर्मा ने आगे कहा, “और हां, आपके उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को असम से निमंत्रण भेजा गया है।” दोनों मुख्यमंत्रियों के बीच ट्विटर जंग रविवार को भी जारी रही। आम आदमी पार्टी के प्रमुख ने शर्मा से कहा, ‘‘आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया, मैं आपके स्कूलों को देखने कब आऊं? अगर आपके स्कूल अच्छे नहीं हैं तो कोई बात नहीं। मिलकर ठीक करेंगे ना।’’ एक अन्य ट्वीट में केजरीवाल ने कहा, ‘‘यकीन मानिए, जब असम में आप की सरकार बनेगी तो वहां भी दिल्ली जैसा विकास करेंगे। भ्रष्टाचार खत्म करेंगे तो वहां भी संसाधनों की कमी नहीं होगी।’’ पिछले चार दिन से केजरीवाल और शर्मा के बीच ट्विटर पर जुबानी जंग जारी है।आम आदमी पार्टी के मुखिया केजरीवाल ने शनिवार को ट्वीट किया था, ‘‘हमारे यहां कहावत है। कोई पूछे “मैं कब आऊं” और आप कहें “कभी भी आ जाओ” इसका मतलब होता है “कभी मत आओ”। मैंने आपसे पूछा “आपके सरकारी स्कूल देखने कब आऊं” आपने बताया ही नहीं। बताइए कब आऊं, तभी आ जाऊंगा।” दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह ट्वीट शर्मा द्वारा शुक्रवार को दिए गए बयान के बाद किया। शर्मा ने सिलसिलेवार ट्वीट करके दिल्ली और असम के बीच अंतर बताया था और केजरीवाल का मजाक उड़ाया था।

यूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाश्याओमी Mi 5 पेश, जानिए ये फोन क्यों है दुनिया का सबसे हाईटेक स्मार्टफोन******ने आज एमआई 5 को पेश कर दिया। श्याओमी के प्रशंसक काफी समय से इस फोन का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे। ड्यूल सिम श्याओमी एमआई 5 के तीन वैरिएंट बिक्री के लिए उपलब्ध होंगे – स्टैंडर्ड एडिशन, हाई वर्ज़न और एक्सक्लूज़िव एडिशन। स्टैंडर्ड एडिशन में 3 जीबी रैम, 32 जीबी इंटरनल स्टोरेज है और इसकी कीमत करीब 21,000 रुपए है। हाई एडिशन में 3 जीबी रैम, 64 जीबी इंटरनल स्टोरेज और कीमत करीब 24,000 है। इसी तरह से एक्सक्लूज़िव एडिशन में 4 जीबी रैम और 128 जीबी इंटरनल स्टोरेज दिया गया है। ये फोन काले, सफेद और रोज़ कलर में उपलब्ध होगा।श्याओमी एमआई 5 की बिक्री चीन में 1 मार्च से शुरू हो जाएगी, लेकिन भारत व अन्य देशों में इसकी बिक्री कब तक शुरू होगी, इस बारे में कंपनी ने कोई जानकारी फिलहाल नहीं दी है। कंपनी एमआई 5 को दुनिया का सबसे पॉवरफुल प्रोसेसर वाला फोन बता रही है, क्योंकि इसमें स्नैपड्रैगन 820 चिपसेट का इस्तेमाल किया गया है।श्याओमी (Xiaomi) के एमआई 5 के लॉन्च होने के कयास लंबे समय से लगाए जा रहे हैं, पिछले साल कई बार इसकी लॉन्चिंग की डेट टेक वेबसाइट्स पर लीक की गईं, मगर श्याओमी का फ्लैगशिप फोन लॉन्च नहीं हुआ। श्याओमी के फोन्स और खासतौर से एमआई सीरीज़ के फोन्स को पसंद करने वालों के लिए खुशखबरी है कि यह फोन आखिरकार लॉन्च हो गया है। श्याओमी (Xiaomi) ने बार्सिलोना में मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में अपने इस ‘मास्टरपीस’ को पूरी भव्यता के साथ लॉन्च कर दिया और इसी के साथ इस फोन का पिछले एक साल से बेसब्री से इंतज़ार करने वालों की प्रतीक्षा का भी अंत हो गया।5.15-इंच1080x1920 पिक्सलएंड्रॉइड 6.0 मार्शमैलो1.8 गीगाहर्ट्ज़32 जीबी/64 जीबी/128 जीबी16-मेगापिक्सल4-अल्ट्रापिक्सल3000 एमएएचयूपीटीईटीकेनतीजेकबहोंगेजारीयहांजानेंचेककरनेकातरीकाSri Lanka Crisis: संकट में नहीं छोड़ा साथ, भारत ने श्रीलंका को अबतक दी करीब 5 अरब डॉलर की मदद******Highlightsकेंद्र सरकार ने गुरुवार को संसद में बताया कि भारत की ओर से दी जाने वाली विकास सहायता के प्रमुख प्राप्तकर्ताओं में आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा पड़ोसी देश श्रीलंका है। सरकार ने बताया कि श्रीलंका को कुल मिलाकर 2.68 अरब अमेरिकी डॉलर की 13 लोन सहायता प्रदान की गई हैं। राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने यह जानकारी दी।विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने राज्यसभा में कहा कि भारत अपने पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंधों को उच्च प्राथमिकता देता है और भारत की ‘‘पड़ोसी प्रथम’’ संबंधी नीति स्थिरता और समृद्धि के लिए फायदेमेंद, लोगों के उन्मुख क्षेत्रीय संरचनाओं के निर्माण पर केंद्रित है। उन्होंने कहा, ‘‘श्रीलंका भारत सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली विकास सहायता के प्रमुख प्राप्तकर्ताओं में से एक है। श्रीलंका के लिए भारत की समग्र सहायता 5 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक है, जिसमें से लगभग 60 करोड़ अमेरिकी डॉलर सहायता अनुदान है और शेष रियायती ऋण है।’’ मुरलीधरन ने कहा, ‘‘कुल मिलाकर 2.68 अरब अमेरिकी डॉलर की 13 ऋण सहायता श्रीलंका को प्रदान की गई है।’’गौरतलब है कि श्रीलंका गंभीर वित्तीय संकट के दौर से गुजर रहा है और विदेशी मुद्रा की कमी के कारण वहां खाना, ईंधन और दवाओं सहित जरूरी चीजों के आयात में दिक्कत आ रही है। मुरलीधरन ने कहा कि भारत ने श्रीलंका के आर्थिक विकास में सहायता करना जारी रखा है और साथ ही उसकी आर्थिक चुनौतियों का समाधान करने में भी सहयोग दिया है। उन्होंने कहा कि जनवरी, 2022 में भारत ने दक्षिण एशियाई देशों के क्षेत्रीय संगठन (दक्षेस) ढांचे के तहत श्रीलंका के साथ 40 करोड़ डॉलर मुद्रा की अदला-बदली की और एशियाई समाशोधन संघ (एसीयू) के उत्तरोत्तर भुगतान को छह जुलाई 2022 तक स्थगित कर दिया।मुरलीधरन ने कहा कि भारत से ईंधन आयात करने के लिए श्रीलंका को 50 करोड़ डॉलर की सहायता प्रदान की गई और इसके अलावा भारत से भोजन और दूसरी जरूरी चीजों की खरीद के लिए 1 अरब डॉलर की सुविधा प्रदान की है। उन्होंने कहा कि लगभग 6 करोड़ रुपये मूल्य की जरूरी दवाएं, मिट्टी का तेल और यूरिया उर्वरक की खरीद के लिए 5.5 करोड़ डॉलर की सहायता प्रदान की गई थी। उन्होंने कहा कि तमिलनाडु सरकार ने व्यापक भारतीय सहायता प्रयासों के तहत 1.6 करोड़ डालर मूल्य का चावल, दूध पाउडर और दवाओं का योगदान किया। तमिलनाडु सरकार ने दूध पाउडर और दवाएं उपलब्ध करवाईं।

पिछला:राम मंदिर का निर्माण 6 दिसंबर से शुरू हो जाएगा: साक्षी महाराज
अगला:रणवीर सिंह ने शेयर की अपनी एनिमेटिड तस्वीर, 83 के लुक में हैं एक्टर
संबंधित आलेख