मुखपृष्ठ > क़िन्ग्युआन
नीरव मोदी-माल्या जैसे भगोड़ों की अब खैर नहीं, उड़ान से 24 घंटे पहले ही सरकार के पास पहुंच जाएगी डिटेल
रिलीज़ की तारीख:2022-09-29 05:21:37
विचारों:644

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलपश्चिम बंगाल में हिंसा पर TMC नेता का बयान, कहा थोड़ी हिंसा तो होगी ही****** पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान के दौरान हुई को लेकर तृणमूल कांग्रेस की नेता और लोकसभा सीट से पार्टी की प्रत्याशी ने विवादास्पद बयान दिया है। मुनमुन सेन ने कहा है कि थोड़ी हिंसा तो होगी ही, हर जगह होती है, मुनमुन सेन ने कहा कि पहले के मुकाबले अब हिंसा कम हो गई है।मुनमुन सेन ने कहा कि वे अभी तक पार्टी में अपने वरिष्ठ नेताओं से नहीं मिली हैं, जब वे वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठेंगी तो पता करेंगी कि हिंसा कहां और क्यों हुई।चौथे चरण के मतदान के दौरान पश्चिम बंगाल के आसनसोल में मतदान केंद्र संख्‍या 125-129 के निकट टीएमसी कार्यकर्ताओं और सुरक्षाबलों के बीच जमकर झड़प हुई। इस बीच कुछ टीएमसी कार्यकर्ताओं ने आसनसोल से सांसद बाबुल सुप्रियो की कार का शीशा तोड़ दिया।बीजेपी के उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो ने ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि हार के डर से ममता बनर्जी की पार्टी बड़ी गड़बड़ी करने की कोशिश कर रही हैं। यहां से बाबुल के खिलाफ टीएमसी की मुनमुन सेन चुनाव लड़ रही हैं।आसनसोल के बूथ नंबर 199 में टीएमसी कार्यकर्ताओं और सुरक्षाबलों के बीच टकराव हो गया। एक टीएमसी पोलिंग एजेंट ने बताया, 'बूथ में बीजेपी का कोई पोलिंग एजेंट मौजूद नहीं है।' दूसरी तरफ बीजेपी की ओर से सांसद प्रत्याशी बाबुल सुप्रियो की कार पर पोलिंग बूथ के बाहर कुछ लोगों ने हमला कर दिया। बाबुल सुप्रियो ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमले का आरोप लगाया है।

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलअल-अक्सा मस्जिद में नमाजियों पर टूटा इजरायली पुलिस का कहर, पथराव के बाद दौड़ा-दौड़ाकर पीटा******Highlights यरूशलम स्थित पवित्र स्थल अल-अक्सा मस्जिद में शुक्रवार को तड़के इजरायली पुलिस और फिलिस्तीनियों के बीच हुए संघर्ष में कम से कम 152 फिलिस्तीनी घायल हो गए। रमजान के पवित्र महीने में सुबह की नमाज के लिए हजारों फिलिस्तीनी वहां मौजूद थे, तभी पुलिस ने तड़के मस्जिद में प्रवेश किया, जिसके बाद संघर्ष शुरू हो गया। यह स्थल यहूदियों और मुसलमान दोनों के लिए पवित्र स्थल है और इजरायल एवं फिलिस्तीन के बीच अशांति का प्रमुख बिंदु रहा है। इस स्थल पर पिछले साल हुई झड़पें गाजा पट्टी पर हमास के लड़ाकों के साथ 11 दिन का युद्ध छिड़ने में अहम कारक थीं।इस बार संघर्ष ऐसे संवेदनशील समय पर हुआ है, जब इस साल रमजान के साथ-साथ यहूदी और ईसाई समुदाय के भी अहम त्योहार पड़ रहे हैं। संघर्ष शुरू होने के कुछ घंटों बाद पुलिस ने घोषणा की कि उसने हिंसा को काबू कर लिया है और ‘सैकड़ों’ संदिग्धों को हिरासत में लिया है। उसने कहा कि मस्जिद को फिर से खोल दिया गया है और शुक्रवार को दोपहर की पहले की तरह होगी। इजरायली पुलिस ने कहा कि उसने यह सुनिश्चित करने के लिए मुस्लिम नेताओं के साथ पहले वार्ताएं की थीं कि हालात शांत रहें और नमाज हो सके, लेकिन युवाओं ने पुलिस पर पथराव किया, जिससे हिंसा भड़की।फिलिस्तीनी गवाहों ने सुरक्षा कारणों से अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर कहा कि फिलिस्तीनियों के एक छोटे समूह ने पुलिस पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस बलपूर्वक परिसर में घुसी और हिंसा भड़क गई। ऑनलाइन उपलब्ध वीडियो में दिख रहा है कि फिलिस्तीनी कर रहे हैं और पटाखे फेंक रहे हैं तथा पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ रही है एवं स्टन ग्रेनेड चला रही है। अन्य वीडियो में मस्जिद के अंदर ही नमाजियों को आंसू गैस के धुएं के बीच खुद को बचाने की कोशिश करते देखा जा सकता है। इजरायली पुलिस सुबह बाद में मस्जिद में घुसी और लोगों को गिरफ्तार किया गया।‘पैलेस्टनीनियन रेड क्रेसेंट’ आपात सेवा ने बताया कि उसने 152 लोगों का उपचार किया है, जिनमें से अधिकतर रबड़ की गोली या स्टन ग्रेनेड या लाठीचार्ज से घायल हुए। मस्जिद का प्रशासनिक कार्य करने वाली एक इस्लामी संस्था ने बताया कि स्थल के एक सुरक्षाकर्मी की आंख में रबड़ की गोली लगी है। इजरायली पुलिस ने बताया कि पथराव के कारण तीन अधिकारी घायल हो गए। इजरायली विदेश मंत्रालय ने कहा कि दर्जनों नकाबपोश लोग फिलिस्तीन और हमास के झंडे लेकर शुक्रवार को, तड़के से पहले मस्जिद परिसर की ओर गए थे और उन्होंने हिंसा की आशंका में पत्थर और अन्य सामान एकत्र किए।इजरायली विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया, ‘पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करने और पत्थरों को हटाने के लिए प्रवेश करना पड़ा, ताकि और हिंसा को रोका जा सके।’ पुलिस ने कहा कि उसने नमाज होने और भीड़ के तितर-बितर हो जाने तक इंतजार किया। उसने एक बयान में कहा कि भीड़ ने यहूदियों के एक निकटवर्ती पवित्र स्थल ‘वेस्टर्न वाल’ की ओर पथराव शुरू कर दिया, जिसके बाद पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी। फिलिस्तीनी अल-अक्सा में पुलिस की बड़ी संख्या में तैनाती को भड़कावे की कार्रवाई मानते हैं।इजरायल के राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्री उमर बारलेव ने कहा कि इजरायल की पवित्र स्थल पर हिंसा करने में ‘कोई रुचि’ नहीं है, लेकिन पुलिस को उस पर पथराव करने और धातु की छड़ों से हमला करने वाले ‘हिंसक तत्वों’ के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि इजरायल प्रार्थना करने के यहूदियों और मुसलमानों की स्वतंत्रता के समान अधिकार के लिए प्रतिबद्ध है। यह मस्जिद मक्का और मदीना के बाद इस्लाम में तीसरा सबसे पवित्र स्थल है। यह एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है जो यहूदियों के लिए सबसे पवित्र स्थल है। यहूदी इसे ‘टेंपल माउंट’ कहते हैं।अल अक्सा मस्जिद इजरायल-फिलिस्तीनी हिंसा का दशकों से एक प्रमुख बिंदु रहा है। फिलिस्तीनियों के घातक हमले में इजरायल में 14 लोगों की मौत के बाद से हालिया सप्ताह में तनाव बढ़ गया है। इजरायल ने कब्जे वाले ‘वेस्ट बैंक’ से कई लोगों को गिरफ्तार किया है एवं वहां कई सैन्य अभियान चलाए हैं और इस दौरान हुए संघर्षों में कई फिलिस्तीनी मारे गए हैं। फिलिस्तीनियों को डर है कि इजरायल स्थल पर कब्जा करना चाहता है या इसका विभाजन करना चाहता है।इजरायली प्राधिकारियों ने कहा कि वे यथास्थिति बनाए रखने को लेकर प्रतिबद्ध हैं, लेकिन हालिया वर्षों में बड़ी संख्या में पुलिस की मौजूदगी में राष्ट्रवादी एवं धार्मिक लोग यहूदी स्थल आए हैं। अल-अक्सा मस्जिद और कई अन्य बड़े स्थल पूर्वी यरूशलम में स्थित हैं, जिस पर इजरायल ने 1967 के युद्ध में कब्जा कर लिया था।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलइवांका ने अपने पिता ट्रंप के चुनावी अभियान के लिए 1 सप्ताह में जुटाए 1.3 करोड़ डॉलर****** व्हाइट हाउस की वरिष्ठ सलाहकार इवांका ट्रंप ने तीन नवंबर को होने वाले चुनावों से पहले अपने पिता एवं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चुनावी अभियान के लिए 1.3 करोड़ डॉलर जुटाए हैं। सरकार के एक सहयोगी ने शुक्रवार को द हिल न्यूज वेबसाइट को बताया कि इवांका ट्रंप 25 और 26 अक्टूबर को माउंटेन व्यू और बेवर्ली हिल्स, कैलिफोर्निया में एक करोड़ डॉलर का फंड एकत्रित करने में सफल रहीं हैं।उन्होंने बताया कि शुक्रवार को इंवाका ने डेट्रायट में एक 30 लाख डॉलर जुटाए। सहयोगी ने कहा कि 25 अक्टूबर से अभी तक इवांका ट्रंप कुल 11 कार्यक्रमों में अपनी मौजूदगी दर्ज करा चुकीं हैं।सितंबर तक, राष्ट्रपति के पुन: चुनाव अभियान ने कुल 25.14 करोड़ डॉलर जुटाए, जबकि उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन के पास 43.2 करोड़ डॉलर की नकदी है।हालांकि नुकसान के बावजूद भी ट्रंप के लिए चल रहे चुनावी अभियान में शामिल लोग पूरी तरह से आश्वस्त हैं कि राष्ट्रपति को फिर से चुनने के प्रयास को बनाए रखने के लिए उनके पास पर्याप्त संसाधन होंगे।

नीरव मोदी-माल्या जैसे भगोड़ों की अब खैर नहीं, उड़ान से 24 घंटे पहले ही सरकार के पास पहुंच जाएगी डिटेल

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलVishwakarma Puja 2020: विश्नकर्मा पूजा के दिन भूलकर भी न करें ये काम, घर पर बनी रहेगी बरकत******आज विश्वकर्मा जयंती है। एक महान ऋषि , शिल्पकार और ब्रह्मज्ञानी थे। ऋग्वेद में भी उनका उल्लेख मिलता है । मान्यता है कि उन्होंने ही देवताओं के घर, नगर, अस्त्र-शस्त्र आदि का निर्माण किया था। हस्तिनापुर, द्वारिका, इंद्रपुरी, पुष्पक विमान, भगवान शिव का त्रिशूल जैसे कई भवनों और वस्तुओं के निर्माता विश्वकरमा ही हैं।कर्ण का कुंडल, विष्णु का सुदर्शन चक्र आदि का निर्माण भी उन्होंने ही किया था। आज सुबह स्नान करके रोजाना उपयोग में आने वाली मशीनों को साफ कर उनको धूप दीप दिखाकर प्रणाम करना चाहिए। विश्वकर्मा पूजा के कुछ नियम बताए गए हैं । जिनका जरूर पालन करना चाहिए।इस साल भगवान विश्वकर्मा जयंती 16 सितंबर को मनाई जाएगी। हर साल विश्वकर्मा पूजा हर साल कन्या संक्रांति के दिन 17 सितंबर को मनाई जाती है। इसके कारण कुछ जगहों पर 16 को तो कुछ जगहों पर 17 सितंबर को मनाई जाएगी।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलHappy Vijayadashami 2021: अमिताभ बच्चन समेत इन सेलेब्स ने दी दशहरे की शुभकामनाएं****** आजदेशभर में का त्योहार सेलिब्रेट किया जा रहा है। आज असत्य पर सत्य की विजय का दिन है। आज ही के दिन रावण को मारकर श्रीराम ने माता सीता को मुक्त कराया था। इस दिन रावण दहन होता है और सभी एक दूसरे को इस दिन की बधाई देते हैं। बॉलीवुड सेलेब्स भी फैंस को दशहरे की शुभकामनाएं दे रहे हैं। आइए देखते हैं सेलेब्स ने कैसे विश किया है-नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलमहिंद्रा लॉन्‍च करेगी दो नए इलेक्ट्रिक वाहन, ईईएसएल की दूसरे दौर की बोली में भाग लेने पर अभी नहीं लिया निर्णय****** घरेलू वाहन कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा है कि वह दो नए इलेक्ट्रिक वाहन बना रही है, जिन्हें वह अगले दो साल में बाजार में उतारेगी।कंपनी फिलहाल तीन इलेक्ट्रिक मॉडल ई-वेरिटो, ई2ओ प्लस व ई-सुपरो बेच रही है।महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा, हम दो इलेक्ट्रिक उत्पादों पर काम कर रहे हैं। पहला वाहन अगले साल के आखिर तक पेश किया जाएगा, जबकि दूसरा वाहन 2019 के मध्य आएगा।उन्होंने हालांकि इसका ब्यौरा नहीं दिया।कंपनी ने अपनी इलेक्ट्रिक वाहन उत्पादन क्षमता को 500 से बढ़ाकर 5000 इकाई प्रति माह करने के लिए अगले दो-तीन साल में 600 करोड़ रुपए के निवेश की योजना बनाई है।गोयनका ने कहा, हमने अब तक इलेक्ट्रिक वाहन खंड में 500 करोड़ रुपए का पहले ही निवेश किया है। अगले दो-तीन साल में हम 600 करोड़ रुपए और निवेश करेंगे।महिंद्रा एंड महिंद्रा ने कहा कि उसने सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) को 9500 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति करने संबंधी दूसरे चरण की बोली में भाग लेने के संबंध में अभी निर्णय नहीं लिया है। उसने कहा कि अभी के मूल्य ढांचे के हिसाब से उसको नुकसान हो जाएगा।दूसरे चरण में 9500 इलेक्ट्रिक कारों की आपूर्ति का ठेका तब जारी किया जाएगा, जब पहले चरण के तहत 500 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति कर ली जाएगी। महिंद्रा पहले चरण के 500 वाहनों के 30 प्रतिशत की आपूर्ति करेगी। हालांकि, वह टाटा मोटर्स द्वारा दावा की गई कीमत पर वाहनों की आपूर्ति कर पाने में मुश्किलों का सामना कर रही है।कंपनी ने कहा कि उसे अभी यह देखना होगा कि बोली के अगले चरण में भाग लेना उसके लिए किस तरह से स्वीकार्य होगा।महिंद्रा के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका ने बताया, हमारे वाहन अन्य बोलीकर्ताओं की तुलना में 2.3 लाख रुपए महंगे हैं और ऐसे में हमें नुकसान का खतरा है।

नीरव मोदी-माल्या जैसे भगोड़ों की अब खैर नहीं, उड़ान से 24 घंटे पहले ही सरकार के पास पहुंच जाएगी डिटेल

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलMaruti Grand Vitara: मारुति की यह SUV बचाएगी पेट्रोल के पैसे, Creta और Harrier से होगा मुकाबला******Highlightsमारुति सुजुकी इंडिया (MSI) ने आज अपनी मीडियम साइज एसयूवी ग्रांड विटारा को भारतीय बाजार में पेश कर दिया है। कंपनी ने अभी इसकी कीमतों का खुलासा नहीं किया है। यह Maruti Suzuki की सबसे महंगी एसयूवी होगी। माना जा रहा है कि यह कंपनी की क्रॉसओवर S Cross की जगह लेगी। हाल ही में लॉन्च हुई Brezza की तरह है कंपनी ने Grand Vitara को मजबूत और Mild Hybrid तकनीक के साथ पेश किया है।Grand Vitara 1.5 लीटर के पेट्रोल पावरट्रेन इंजन में आएगी। विटारा एक लीटर पेट्रोल में 27.97 किलोमीटर चली सकती है, जो इसे देश की सबसे अधिक ईंधन कुशल एसयूवी बनाती है। मारुति की ग्रांड विटारा का घरेलू बाजार में Hyundai Creta, Kia Seltos और Tata Harrier जैसे गाड़ियों से सीधा मुकाबला हैं। इस पेशकश के साथ मारुति सुजुकी मध्यम आकार की एसयूवी श्रेणी में अपनी उपस्थिति को बढ़ाने की योजना बना रही है। यही सेगमेंट है जिसमें मारुति पिछड़ती नजर आ रही है।मारुति सुजुकी की ग्रांड विटारा हाइब्रिड दो पावरट्रेन ऑप्शन में मिलेगी। जिसमें एक 1.5-लीटर हाइब्रिड पेट्रोल इंजन और एक 1.5-लीटर डुअल VVT पेट्रोल इंजन शामिल है। यह SUV 4 ड्राइव मोड- EV, इको, पावर और नॉर्मल में मिलती है। ग्रैंड विटारा को 6 मोनोटोन कलर ऑप्शन और 3-डुअलटोन कलर ऑप्शन के साथ पेश किया जाएगा।SUV में सेफ्टी के लिए 6 एयरबैग ESP, हिल होल्ड असिस्ट, रीयर डिस्क ब्रेक, हिल डिसेंट कंट्रोल और TPMS मौजूद हैं। इसके अलावा, डिजिटल क्ल्स्टर, नेक्सावेव ग्रिल, 17 इंच एलॉय व्हील, NEXTre 3D LED टेल लैम्प, पैनॉरमिक सनरूफ, 360 डिग्री कैमरा, वेंटिलेटेड सीट, 7 इंच मल्टी इन्फो डिस्प्ले, हेड अप डिस्प्ले, वायरलेस चार्जर, सुजुकी कनेक्ट इन बिल्ट फीचर्स मौजूद हैं। इसमें कंपनी वेंटिलेटेड सीट, मल्टीपल ड्राइविंग मोड जैसे फीचर्स भी दे रही है। कंपनी का दावा है कि इस SUV को किसी भी मौसम और टेरेन में बड़ी आसानी से चलाया जा सकता है।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलNavratri 2019: 29 सितंबर से नवरात्र शुरू, जानें कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व******शारदीय की शुरुआत 29 सितंबर से हो रही है। इस बार पूरे नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग नौ शक्ति स्वरूपों की पूजा की जायेगी। दरअसल वर्ष में चार बार पौष, चैत्र, आषाढ और अश्विन माह में नवरात्र आते हैं। चैत्र और आश्विन में आने वाले नवरात्र प्रमुख होते हैं, जबकि अन्य दो महीने पौष औरआषाढ़ में आने वाले नवरात्र गुप्त नवरात्र के रूप में मनाये जाते हैं। चूंकि आश्विन माह से शरद ऋतु की शुरुआत होने लगती है, इसलिए आश्विन माह के इन नवरात्र को शारदीय नवरात्र के नाम से जाना जाता है।शारदीय नवरात्र 29 सितम्बर से शुरू होकर 7 अक्टूबर तक चलेंगे। नवरात्र के पहले दिन देवी मां के निमित्त घट स्थापना या कलश स्थापना की जाती है। 29 सितंबर को घट स्थापना की जाएगी। जानें आचार्य इंदु प्रकाश से घट स्थापना का सही समय और सही विधि।नवरात्र में कलश स्थापना के लिए शुभ, अमृत, लाभ, चक्र की चौघड़िया द्विस्वभावी लग्न शुभ मानी जाती है |सुबह 05 बजकर 24 मिनट से 07 बजकर 14 मिनट तक लग्न धनु दोपहर 12 बजकर 19 मिनट से 02 बजकर 32 मिनट तकलग्न शाम 05 बजकर 32 मिनट से 06 बजकर 58 मिनट तक रहेगी |सुबह 07 बजकर 42 मिनट से लेकर 09 बजकर 12 मिनट तकसुबह 09 बजकर 12 मिनट से लेकर 10 बजकर 42 मिनट तकसुबह 10 बजकर 42 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 12 मिनट तकदोपहर 01 बजकर 42 मिनट से दोपहर बाद 3 बजकर 11 मिनट तकसुबह 07 बजकर 40 मिनट तक द्विस्वभावी लग्न कन्या रहेगी | उस समय कलश स्थापना 09 बजकर 12 मिनट तक चर की चौघड़िया में अथवा 09 बजकर 12 मिनट से 10 बजकर 42 मिनट तक लाभ की चौघड़िया या 10 बजकर 42 मिनट से 12 बजकर 12 मिनट तक अमृत की चौघड़िया में कलश स्थापना श्रेष्कर रहेगी | दूसरी द्विस्वभावी लग्न धनु 12 बजकर 19 मिनट से दोपहर 02 बजकर 23 मिनट तक रहेगी, तो इनका कॉमन समय दोपहर 01 बजकर 42 मिनट से 02 बजकर 23 मिनट तक रहेगा | ये समय भी बहुत शुभ है |अस्तु सुबह 07 बजकर 40 मिनट से कलश स्थापना शुरू करके दोपहर 12 बजकर 12 तक कभी भी किया जा सकता है | दोपहर में 11 बजकर 50 मिनट से 12 बजकर 12 मिनट के बीच अभिजित मुहूर्त भी रहेगा | ये मुहूर्त भी बेहद शानदार होता है |कहते हैं भगवान श्री राम ने लंकापति रावण पर विजय पाने से पहले देवी मां की आराधना की थी, जिसके फलस्वरूप आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को भगवान श्री राम ने रावण पर विजय हासिल की थी। इसीलिए आज भी नवरात्र के नौ दिनों के दौरान रामलीला का आयोजन होता है और नवरात्र के सम्पूर्ण होने के अगले दिन विजयदशमी, यानी दशहरे का त्योहार मनाया जाता है, जिसमें रावण के प्रतीक स्वरूप पुतले को जलाया जाता है और श्री राम की विजय का उत्सव मनाया जाता है । दशहरे का त्योहार जहां एक ओर अहंकार पर सत्य की विजय के अलावा इस बात का भी द्घोतक है कि इस देश के ब्राह्मण कभी जातिद्वेषी नहीं थे यदि ब्राह्मण जातिद्वेषी होते तो आज राम की नहीं रावण की पूजा होती, क्योंकि रावण ब्राह्मण थे | इस दिन सभी ब्राह्मण श्रीराम की पूजा करते है | वास्तव में इस देश के ब्राह्मण कभी जतिद्वेषी थे ही नहीं, ये तो मध्य काल में हिन्दू समाज को तोड़ने के लिये ब्राह्मणों को दोषी होने का झूठ कुप्रचार किया गया |इस दिन सबसे पहले घर के ईशान कोण, यानी उत्तर-पूर्व दिशा के हिस्से की अच्छे से साफ- सफाई करके, वहां पर जल छिड़कर साफ मिट्टी या बालू बिछानी चाहिए। फिर उस साफ मिट्टीया बालू पर जौ की परत बिछानी चाहिए। उसके ऊपर पुनः साफ मिट्टी या बालू की परत बिछानी चाहिए और उसका जलावशोषण करना चाहिए। जलावशोषण का मतलब है कि उस मिट्टी की परत के ऊपर जल छिड़कना चाहिए। अब उसके ऊपर मिट्टी या धातु के कलश की स्थापना करनी चाहिए। कलश को अच्छ से साफ, शुद्ध जल से भरना चाहिए और उस कलश में एक सिक्का डालना चाहिए। अगर संभव हो तो कलश के जल में पवित्र नदियों का जल भी जरूर मिलाना चाहिए।इसके बाद कलश के मुख पर अपना दाहिना हाथ रखकरये मंत्र पढ़ें और अगर मंत्र न बोल पायें तो या ध्यान न रहे तो बिना मंत्र के ही गंगा, यमुना, गोदावरी, सरस्वती, नर्मदा, सिन्धु और कावेरी, पवित्र नदियों का ध्यान करते हुए उन नदियों के जल का आह्वाहन उस कलश में करना चाहिए और ऐसा भाव करना चाहिए कि सभी नदियों का जल उस कलश में आ जाये। पवित्र नदियों के साथ ही वरूण देवता का भी आह्वाहन करना चाहिए, ताकि वो उस कलश में अपना स्थान ग्रहण कर लें। इस प्रकार आह्वाहन आदि के बाद कलश के मुख पर कलावा बांधिये और एक ढक्कन या परई या दियाली या मिट्टी की कटोरी, जो भी आप उसे अपनी भाषा में कहते हों और जो भी आपके पास उपलब्ध हो, उससे कलश को ढक दीजिये। अब ऊपर ढकी गयी उस कटोरी में जौ भरिये। यदि जौ न हो तो चावल भी भर सकते हैं। इसके बाद एक जटा वाला नारियल लेकर उसे लालकपड़े में लपेटकर, ऊपर कलावे से बांध दें। फिर उस बंधे हुए नारियल को जौ या चावल से भरी हुई कटोरी के ऊपर स्थापित कर दीजिये।कई लोग होते है कि कही भी दीपक जला लेते हैं। ऐसा करना उचित नहीं है। कलश का स्थान पूजा के उत्तर-पूर्व कोने में होता है जबकि दीपक का स्थान दक्षिण-पूर्व कोने में होता है। अतः कलश के ऊपर दीपक नहीं जलाना चाहिए। दूसरी बात ये है कि कुछ लोग कलश के ऊपर रखी कटोरी में चावल भरकर उसके ऊपर शंख स्थापित करते हैं। इसमें कोई परेशानी नहीं है, आप ऐसा कर सकते हैं। बशर्ते कि शंख दक्षिणावर्त होना चाहिए और उसका मुंह ऊपर की ओर रखना चाहिए और चोंच अपनी ओर करके रखनी चाहिए।मंत्र अवश्य पढ़ना चाहिए। नवार्ण मंत्र है- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे।"देखिये एक बार फिर से नवार्ण मंत्र के साथ सारी कार्यवाही समझ लीजिये -सबसे पहले उत्तर-पूर्व कोने की सफाई करें और जल छिड़कते समय कहें- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे।"फिर कोने में मिट्टी या बालू बिछायी और 5 बार मंत्र पढ़ा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसके ऊपर जौ बिछाया और मंत्र पढ़ा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसके ऊपर फिर मिट्टी या बालू बिछायी और मंत्र पढ़ा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसके ऊपर कलश रखा और मंत्र पढ़ा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"कलश में जल भरा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसमें सिक्का डाला- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"वरूण देव का आह्वाहन किया- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"कलश के मुख पर कलावा बांधा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"कलश के ऊपर कटोरी रखी- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसमें चावल या जौ भरा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"नारियल पर कपड़ा लपेटा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उसे कलावे से बांधा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे"उस नारियल को जौ या चावल से भरी कटोरी पर रखा- "ऊँ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे" इस प्रकार सभी चीजें चामुण्डा मंत्र से ही, यानी नवार्ण मंत्र से अभिपूत की जानी है।आचार्य इंदु प्रकाश के अनुसार नवरात्र के पहले दिन ध्वजारोपण की भी परंपरा है। इस दिन अपने घर के दक्षिण-पूर्व कोने, यानि अग्नि कोण में पांच हाथ ऊंचे डंडे में, सवा दो हाथ की लाल रंग की ध्वजा लगानी चाहिए । ध्वजा लगाते समय सोम, दिगंबर कुमार और रूरू भैरव देवताओं कीउपासना करनी चाहिए और उनसे अपनी ध्वजा की रक्षा करने की प्रार्थना करनी चाहिए । साथ ही अपने घर की सुख-समृद्धि के लिये भी प्रार्थना करनी चाहिए । ये ध्वजा जीत की प्रतीक मानी जाती है। इसे घर पर लगाने से केतु के शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं और साल भर घर का वास्तु भी अच्छा रहता है।

नीरव मोदी-माल्या जैसे भगोड़ों की अब खैर नहीं, उड़ान से 24 घंटे पहले ही सरकार के पास पहुंच जाएगी डिटेल

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलENG vs IND 1st ODI Dream11 Prediction: ये हो सकती है आपकी ड्रीम 11 टीम, जानिए कप्तान और उपकप्तान******भारत और इंग्लैंड के बीच तीन वन डे मैचों की सीरीज का पहला मैच आज खेला जाएगा। इससे पहले टीम इंडिया इंग्लैंड से तीन टी20 मैचों की सीरीज जीत चुकी है और अब वन डे की बारी है। रोहित शर्मा जहां टीम इंडिया की कमान संभालेंगे, वहीं जॉस बटलर पहली बार इंग्लैंड की कप्तानी वन डे में करते हुए नजर आएंगे। जॉस बटलर की कोशिश होगी कि अपने अभियान की शुरुआत जीत के साथ की जाए, वहीं भारतीय टीम टी20 सीरीज की जीत का सिलसिला जारी रखने की कोशिश करेगी। हालांकि टीम इंडिया के पूर्व कप्तान विराट कोहली का आज के मैच में खेलना मुश्किल नजर आ रहा है, लेकिन जब कप्तान रोहित शर्मा टॉस के लिए आएंगे, तभी पक्का होगा कि विराट कोहली आज का मैच खेलेंगे या नहीं।भारतीय टीम हालांकि बुलंद हौसलों के साथ आज के मैच में उतरेगी, भले टीम इंडिया सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच हार गई हो, लेकिन उस मैच में सूर्य कुमार यादव ने जिस तरह की पारी खेली और अकेले दम पर इंग्लैंड को बैकफुट पर डाला, उससे इंग्लैंड की टीम चिंतित जरूर होगी। उस मैच में भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह भी नहीं खेले थे। लेकिन आज पूरी संभावना है कि भुवनेश्वर कुमार तो नहीं, लेकिन जसप्रीत बुमराह जरूर खेलते हुए नजर आएंगे। उनका साथ मोहम्मद शमी देते हुए दिख सकते हैं। उधर इंग्लैंड की टीम में जो रूट, जॉनी बेयरस्टो और बेन स्टोक्स की वापसी हो रही है। इससे टीम और भी मजबूत हो जाएगी।विकेट कीपर : जॉनी बेयरस्टोबल्लेबाज : शिखर धवन, रोहित शर्मा, लियाम लिविंगस्टोन, सूर्यकुमार यादवआलराउंडर : बेन स्टोक्स, मोईन अली, हार्दिक पांड्यागेंदबाज : जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, रीस टॉप्लीआज के मैच में कप्तान के तौर पर आप सूर्य कुमार यादव को रख सकते हैं। अगर विराट कोहली आज का मैच नहीं खेलते हैं तो वे नंबर तीन पर ​बल्लेबाजी के लिए आ सकते हैं। जिस तरह की बल्लेबाजी उन्होंने की है, उससे उनका आत्मविश्ववास सातवें आसमान पर होगा। वे आज फिर से बड़ी पारी खेल सकते हैं। इसके अलावा अगर उपकप्तान की बात है तो उपकप्तान के तौर पर हार्दिक पांड्या पर दांव लगाया जा सकता है।रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, हार्दिक पंड्या, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, प्रसिद्ध कृष्णा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल। जेसन रॉय, जॉनी बेयरस्टो, जो रूट, लियाम लिविंगस्टोन, बेन स्टोक्स, जोस बटलर (कप्तान और विकेटकीपर), मोईन अली, सैम करन, डेविड विली, मैथ्यू पार्किंसन, रीस टॉप्ली।

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलघरेलू उड़ानों की संख्‍या बढ़ाएगी सरकार, विदेश से आने वालों के लिए नए दिशा-निर्देश किए जारी******Airlines may soon be permitted to operate 75 pc of pre-COVID domestic flightsसरकार ने कहा है यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी को देखते हुए भारतीय एयरलाइंस की घरेलू उड़ानों पर लगाई गई सीमा को बढ़ाया जाएगा। नागर विमानन मंत्रालय ने कहा कि यात्रियों की संख्या में अच्छा सुधार देखने को मिल रह रहा है, ऐसे में एयरलाइंस को घरेलू उड़ानों की संख्या को बढ़ाकर कोविड-19 पूर्व स्तर के 70 से 75 प्रतिशत तक किया जाएगा। इससे पहले पिछले सप्ताह मंत्रालय ने कहा था कि कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए घरेलू एयरलाइंस को अगले साल 24 फरवरी तक कोविड-19 के पूर्व के स्तर के अधिकतम 60 प्रतिशत तक उड़ानों के परिचालन की अनुमति होगी। में कहा कि यातायात की प्रतिदिन के आधार पर निगरानी की जा रही है। त्योहारी मौसम के मद्देनजर यात्रियों की संख्या और बढ़ने की उम्मीद है। ऐसे में आगामी दिनों में एयरलाइंस को सामान्य क्षमता पर 70 से 75 प्रतिशत उड़ानों की अनुमति दी जा सकती है। बयान में कहा गया है कि एक नवंबर को घरेलू उड़ानों से 2.05 लाख यात्रियों ने यात्रा की। मंत्रालय ने दो सितंबर को आधिकारिक आदेश के जरिये घरेलू एयरलाइंस को 60 प्रतिशत उड़ानों के परिचालन की अनुमति दी थी। हालांकि, इस आदेश में यह नहीं बताया गया था कि यह सीमा कब तक लागू रहेगी।केंद्र सरकार ने गुरुवार को विदेश से भारत आने वालों के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 को देखते हुए विदेशों से आने वाले लोगों के लिए नए दिशा-निर्देशों में कहा है कि सभी यात्रियों को निर्धारित यात्रा से कम से कम 72 घंटे पहले संबंधित स्वास्थ्य काउंटर पर पहुंचना होगा या ऑनलाइन पोर्टल पर स्व-घोषणा पत्र देना होगा। उन्हें संबंधित विमानन कंपनियों के माध्यम से एक स्व-घोषणा पत्र देना होगा, ताकि उन्हें यात्रा करने की अनुमति मिल सके। वे 14 दिनों के लिए अपने घर पर अलग रहकर या स्वयं की निगरानी के लिए सरकारी निर्देशों का पालन करेंगे।आरटी-पीसीआर जांच में नेगेटिव रिपोर्ट के बिना विदेशों से आने वाले यात्री और होम क्वारंटीन से छूट लेने के इच्छुक यात्री हवाईअड्डों पर भी आरटी-पीसीआर जांच करा सकते हैं। आरटी-पीसीआर जांच नेगेटिव रिपोर्ट के बिना आने वाले और हवाईअड्डे पर आरटी-पीसीआर जांच का विकल्प नहीं लेने वाले विदेशों से आए यात्रियों को आवश्यक रूप से सात दिनों के संस्थागत क्वारंटीन और सात दिवसीय होम क्वारंटीन का पालन करना होगा।दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि 10 वर्ष या उससे कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं, परिवार में किसी की मृत्यु, माता-पिता की गंभीर बीमारी जैसे कारणों के लिए घर में ही एकांतवास (होम क्वारंटीन) की अनुमति दी जा सकती है। नेगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट देने के साथ ही यात्री होम क्वांरटीन की छूट ले सकते हैं। यह जांच यात्रा शुरू करने से पूर्व 72 घंटे पहले की जानी चाहिए। विदेशों से आने वाले यात्रियों की जांच में कोरोना संक्रमण के लक्षण पाए जाने पर उन यात्रियों को शीघ्र ही स्वास्थ्य मानकों के अनुसार चिकित्सा सुविधा दी जाएगी।केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को कहा कि वंदे भारत मिशन के तहत अब तक 29.23 लाख से अधिक फंसे हुए लोगों को स्वदेश लाया गया और अंतरराष्‍ट्रीय यात्रा की सुविधा प्रदान की गई है। एक ट्वीट में, मंत्री ने कहा कि बुधवार को 5,362 भारतीय वंदे भारत मिशन के तहत लौट आए।मई में फिर से परिचालन शुरू होने के बाद से अब तक 1.70 लाख से अधिक यात्री 1,704 घरेलू उड़ानों में उड़ान भर चुके हैं। पिछले महीने, पुरी ने राज्यसभा को बताया कि दिवाली तक और साल के अंत में भारत में प्रतिदिन तीन लाख यात्रियों का कोविड से पहले का विमानन यात्रा का आंकड़ा छू जाएगा।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलकब आएगी बच्चों के लिए कोविड-19 वैक्सीन? अदार पूनावाला ने दिया यह जवाब******Highlightsदक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस का Omicron वेरिएंट दुनिया के लिए लगातार चुनौतियां बढ़ा रहा है। यह दुनिया के तमाम देशों में फैल चुका है। भारत में भी इसके 49 मामले सामने आ चुके हैं। बताया जा रहा है कि इससे बच्चे भी संक्रमित हो सकते हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोविड वैक्सीनेशन से इससे बचा जा सकता है जिसके बाद लोग पूछने लगे हैं कि बच्चों को वैक्सीनेशन कब होगा। इस सवाल का जवाब दिया सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला ने। पूनावाला ने बताया कि अगले छह महीने में बच्चों के लिए कोविड-19 का वैक्सीन लाने की योजना है। ने एक उद्योग सम्मेलन में भाग लेते हुए कहा कि कोवोवैक्स वैक्सीन का परीक्षण चल रहा है और यह तीन साल और उससे अधिक की आयु के बच्चों को हर तरह से सुरक्षा प्रदान करेगा। वर्तमान में कोविशील्ड और कोविड-19 के अन्य वैक्सीन को 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए मंजूरी प्राप्त है। पूनावाला ने कहा, ‘‘हमने बच्चों में ज्यादा गंभीर रोग नहीं देखे हैं। सौभाग्य से बच्चों के लिए दहशत नहीं है। हालांकि, हम बच्चों के लिए छह महीने में एक वैक्सीन लेकर आएंगे, उम्मीद है कि यह तीन साल और उससे अधिक आयु के बच्चों के लिए होगा।’’उन्होंने इस बात का उल्लेख किया कि भारत में दो कंपनियां हैं जिन्हें लाइसेंस प्राप्त है और उनके वैक्सीन जल्द उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है, हां आपको अपने बच्चे को वैक्सीन लगवाना चाहिए, इसका कोई नुकसान नहीं है, ये वैक्सीन सुरक्षित और कारगर साबित हुए हैं। यदि आपको लगता है कि आपको अपने बच्चे का वैक्सीनेशन कराना चाहिए तो इसके लिए सरकार की घोषणा का इंतजार करें। बच्चों के लिए हमारा वैक्सीन कोवोवैक्स छह महीने में आएगा।’’ पूनावाला ने कहा कि कोवोवैक्स का परीक्षण चल रहा है और तीन साल तथा उससे अधिक उम्र के बच्चों में हर तरह से परीक्षण के शानदार आंकड़े देखने को मिले हैं।उन्होंने कहा कि यह प्रदर्शित करने के लिए पर्याप्त आंकड़ें हैं कि वैक्सीन काम करेगा और बच्चों को इस संक्रामक रोग से बचाएगा। पूनावाला ने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि (कोविड-19 के नये वेरिएंट) Omicron के संदर्भ में क्या होगा, लेकिन अब तक बच्चे कोराना वायरस से बुरी तरह से प्रभावित नहीं हुए हैं। ’’ Omicron वेरिएंट के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मामले बढ़ सकते हैं लेकिन अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या इससे किस कदर बढ़ेगी, उस बारे में अभी कोई भी अनुमान लगाने की स्थिति में नहीं है।उन्होंने कहा, ‘‘भारत प्रतिदिन के 8,000 से 10,000 नये मामलों के साथ एक बेहतर स्थिति में हैं। इनमें से ज्यादातर मामले डेल्टा वेरिएंट के हैं। मैं अनुमान नहीं लगाना चाहता क्योंकि पर्याप्त आंकड़े नहीं रहने पर हम अनुमान नहीं कर सकते।’’ पूनावाला ने कहा, ‘‘लेकिन हम निश्चित रूप से यह जानते हैं कि यदि आप तीन खुराक ले लेते हैं तो आपके शरीर की प्रतिरक्षा बढ़ जाएगी, कम से कम पांच-छह महीनों के लिए।’’ उन्होंने कहा कि यदि डेल्टा वेरिएंट जैसा ही सबकुछ चलता रहा तो इससे अस्पतालों में कोविड के मरीजों के भर्ती होने की संख्या घटेगी।उन्होंने कहा कि Omicron पर स्पष्टता एक महीने में या इससे अधिक समय में आएगी और तब यह पता चलेगा कि मौजूदा वैक्सीन वायरस के नये स्वरूप पर कितने कारगर हैं। उन्होंने कहा, ‘‘एक चीज बहुत निश्चित है कि Omicron कहीं अधिक संक्रामक है और यह विश्व में बहुत तेजी से फैलेगा। हालांकि, शुरूआती आंकड़ों से पता चला है कि यह कुछ हल्के संक्रमण वाला है। लेकिन हमें इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए।’’ पूनावाला ने कहा, ‘‘वैक्सीनेशन एक साबित रणनीति है, जो निश्चित रूप से आपकी एंटीबॉडी बढ़ाएगा और आपको कुछ सुरक्षा देगा, यह कभी शून्य नहीं होने जा रहा। इसलिए, मुझे लगता है कि नीति निर्माताओं को फैसला करना होगा। सरकार इसे कैसे देखती है हम उसके फैसले का इंतजार कर रहे हैं।’’उन्होंने कहा कि जब नये वेरिएंट के बारे में स्पष्टता का अभाव है, ऐसे में बूस्टर खुराक जैसे एहतियाती उपायों के बारे में सोचा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसी भी अकस्मात स्थिति के लिए अपनी ओर से पर्याप्त तैयारी की है। उन्होंने कहा, ‘‘विश्व अब तीसरी, चौथी लहर के लिए कहीं बेहतर तैयार है क्योंकि हमने सीखा है कि क्या करना है और क्या नहीं करना है। इसलिए आज हम बेहतर स्थिति में हैं। लेकिन हमें दशहत में नहीं आना चाहिए। चीजें कैसे प्रकट होती हैं उसके लिए हमें इंतजार करना चाहिए। ’’ उन्होंने आसान नीतियों की भी हिमायत की ताकि नयी परियोजनाएं और फैक्टरी तेज गति से शुरू हो सकें।

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलनवंबर में 14 फीसदी बढ़ी मारुति की बिक्री, इग्निस, बलेनो, डिजायर की बिक्री में तेज उछाल****** नवंबर के महीने में मारुति की बिक्री में उछाल देखने को मिला है। कंपनी की बिक्री में नवंबर 2016 के मुकाबले 14.1 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस साल नवंबर में कंपनी ने 154600 कारों की बिक्री की है। जबकि नवंबर 2016 में कंपनी ने 135550 वाहन बेचे थे। घरेलू बिक्री की बात करें तो पिछले महीने कंपनी ने 145300 यूनिट बेचीं वहीं 9300 वाहनों का निर्यात किया। कंपनी की कॉम्‍पेक्‍ट कारों की बिक्री में 32 फीदसी का उछाल आया है, वहीं ऑल्‍टो और वैगनआर जैसी छोटी कारों की बिकी 1.8 फीसदी गिरी है। मारुति सियाज की बिक्री में 26 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।मारुति की ओर से जारी नवंबर माह के आंकड़ों के अनुसार कंपनी की कॉम्‍पेक्‍ट श्रेणी की कारों की बिक्री ने इस महीने तेज रफ्तार पकड़ी है। इनकी बिक्री 32.4 फीसदी बढ़ी है। इस सेगमेंट में कंपनी की स्विफ्ट, सेलेरियो, इग्निस, बलेनो, डिजायर जैसी कारें आती हैं। कंपनी ने इस सेगमेंट में नवंबर के दौरान 65447 करें बेची, जबकि नवंबर 2016 में यह आंकड़ा 49431 था। लेकिन कंपनी की छोटी कारों की बिक्री इस महीने 1.8 फीसदी गिरी है। इस श्रेणी में कंपनी की वैगनआर और ऑल्‍टो रेंज की कारें आती हैं। इस महीने कंपनी ने 38204 कारें बेचीं, जबकि 2016 के नवंबर में यह आंकड़ा 38886 था।दूसरी ओर कंपनी की मिड साइज सेडान कार सियाज के बिक्री आंकड़े भी काफी निराशाजनक रहे। पिछले महीने इसकी बिक्री में 26.2 फीसदी गिरावट दर्ज की गई। कंपनी ने नवंबर में 4009 सियाज बेचीं। वहीं पिछले साल नवंबर में यह आंकड़ा 5433 यूनिट था। घरेलू बिक्री की बात करें तो यह भी 14 फीसदी से ज्‍यादा उछला है। इस नवंबर में कंपनी ने 144297 कारें बेचीं, वहीं पिछले साल नवंबर में यह आंकड़ा 126220 था।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेललखीमपुरी-खीरी हिंसा: सुप्रीम कोर्ट ने रद्द की आशीष मिश्रा की जमानत याचिका, 1 हफ्ते में करना होगा सरेंडर******Highlightsलखीमपुरी-खीरी हिंसा के आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत याचिका सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा को एक हफ्ते में सरेंडर करने के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट ने इस मामले पर पीड़ित पक्ष को नहीं सुना।सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में आशीष मिश्रा को जमानत देने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को भी रद्द कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले को नए सिरे से सुनवाई के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट को वापस भेज दिया है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट को पीड़ित पक्ष को भी सुनना चाहिए।कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत रद्द किए जाने का अनुरोध करने की किसानों की याचिका पर चार अप्रैल को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले, कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत याचिका मंजूर करने के इलाहबाद हाईकोर्ट के आदेश पर सवाल उठाए थे और कहा था कि जब मामले की सुनवाई अभी शुरू होनी बाकी है, तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट और चोटों की प्रकृति जैसी अनावश्यक बातों पर गौर नहीं किया जाना चाहिए।किसानों की ओर से पेश हए वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे और प्रशांत भूषण ने दलील दी थी कि हाई कोर्ट ने व्यापक आरोप पत्र पर विचार नहीं किया, बल्कि प्राथमिकी पर भरोसा किया। राज्य की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी ने कहा कि आरोपी के देश से बाहर जाने की आशंका नहीं है और उसकी कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं रही है।शीर्ष कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर 16 मार्च को उत्तर प्रदेश सरकार और आशीष मिश्रा से जवाब मांगा था। पीठ ने उत्तर प्रदेश सरकार को गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया था। इससे पहले, किसानों की ओर से पेश वकील ने 10 मार्च को एक प्रमुख गवाह पर हुए हमले का जिक्र किया था। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों के सदस्यों ने आशीष मिश्रा को जमानत देने के हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलDelhi Politics: भाजपा ने आप पर DDA की जमीन बेचने का आरोप लगाया, सोमनाथ भारती के इस्तीफे की मांग की******Highlightsदिल्ली के भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने बुधवार को आरोप लगाया कि, स्वास्थ्य और परिवहन क्षेत्र में घोटालों के बाद अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने अब सरकारी जमीन हड़प कर बेचना शुरू कर दिया है। दिल्ली भाजपा ने आप विधायक सोमनाथ भारती पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) की जमीन बेचने का आरोप लगाया और उनके इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। भारती को बर्खास्त करने की मांग करते हुए गुप्ता ने कहा, करोड़ों रुपए की जमीन, जो हौज खास में डियर पार्क का एक हिस्सा है, उस पर केजरीवाल के करीबी और स्थानीय विधायक सोमनाथ भारती और वक्फ बोर्ड के कहने पर हौज खास में डियर पार्क का एक हिस्सा करोड़ों रुपए की जमीन पर कब्रिस्तान बनाने के लिए अतिक्रमण कर लिया गया है। जमीन असल में DDA की है।आम आदमी पार्टी कर रही भूमि जिहादगुप्ता ने 'घोटाले' को 'भूमि जिहाद' करार देते हुए भारती पर करोड़ों रुपए के सरकारी भूखंड बेचने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद केजरीवाल सरकार भ्रष्टाचार के नए कीर्तिमान स्थापित कर रही है, लेकिन भाजपा सरकार द्वारा भू-माफियाओं को संरक्षण देने वालों के खिलाफ प्रदर्शन जारी रखेगी। गुप्ता ने कहा कि जमीन हथियाने के मुद्दे पर आप नेताओं के खिलाफ ठोस कार्रवाई होने तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। उन्होंने उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना से इस पूरे मामले में शामिल आरोपितों को पर कार्रवाई करने की मांग की। वहीं प्रदर्शन में दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष के साथ भाजपा नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी, राजन तिवारी और अन्य नेता भी शामिल रहे।नीरवमोदीमाल्याजैसेभगोड़ोंकीअबखैरनहींउड़ानसे24घंटेपहलेहीसरकारकेपासपहुंचजाएगीडिटेलBengal Election LIVE: कोरोना संकट के बीच सातवें चरण की वोटिंग जारी, ममता के गृह क्षेत्र पर सबकी नजर******कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच में आज सातवें चरण के मतदान जारी है। इसमें 86 लाख से अधिक मतदाता मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गृह निर्वाचन क्षेत्र भवानीपुर सहित 34 सीटों पर 284 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे। चुनाव के पूर्व के चरणों में हुई हिंसा के मद्देनजर सातवें चरण के मतदान के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। निर्वाचन इकाई ने स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए इस चरण में केंद्रीय बलों की कम से कम 796 कंपनी तैनात करने का फैसला किया है। सातवें चरण में 12,068 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जाएंगे। सभी की नजरें भवानीपुर निर्वाचन क्षेत्र पर होंगी जहां से तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी मौजूदा विधायक हैं और वह इसी क्षेत्र की निवासी हैं। बनर्जी ने इस बार नंदीग्राम से चुनाव लड़ा है और अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र से अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्य के विद्युत मंत्री सोभनदेब चट्टोपाध्याय को उम्मीदवार बनाया है। भाजपा ने भवानीपुर से अभिनेता रुद्रनील घोष को अपना उम्मीदवार बनाया है जो तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भगवा दल में शामिल हो गए थे।बंगाल चुनाव के सातवें चरण के चर्चित प्रत्याशियों में तृणमूल सरकार के मंत्री फिरहाद हकीम, सुब्रत मुखर्जी, शोभनदेव चट्टोपाध्याय और भाजपा से जाने-माने अभिनेता रूद्रनील घोष, विख्यात अर्थशास्त्री अशोक कुमार लाहिड़ी, आसनसोल के पूर्व मेयर जीतेंद्र तिवारी और मशहूर फैशन डिजाइनर अग्निमित्रा पाल शामिल हैं। वहीं संयुक्त मोर्चा से जेएनयू की छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष व आभास राय चौधरी (माकपा) और मइनुल हक और आबू हेना (कांग्रेस) चुनावी मैदान में हैं।

पिछला:IND vs PAK : टीम इंडिया की जीत से पाकिस्तान में मची खलबली, जानिए क्या है अपडेट
अगला:प्रदूषण से भारतीय की औसत आयु डेढ़ साल से ज्यादा कम हो जाती है: अध्ययन
संबंधित आलेख