मुखपृष्ठ > वूलोंग काउंटी
दिल्ली और आसपास के इलाकों में CNG के दाम में बढ़ोत्तरी, बढ़ी कीमतें आधी रात से लागू
रिलीज़ की तारीख:2022-09-29 06:28:03
विचारों:118

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागू34 साल बाद आई नई शिक्षा नीति, अंतरिक्ष वैज्ञानिक कस्तूरीरंगन ने निभाया अहम रोल******केंद्रीय कैबिनेट ने देश की नई शिक्षा नीति को मंजूरी दे दी है। इससे पहले शिक्षा नीति को 1986 में तैयार किया गया और 1992 में संशोधित किया गया था। डॉ. के. कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का प्रारूप तैयार करने हेतु गठित समिति द्वारा तैयार किए गए एनईपी 2019, और उस पर प्राप्त हितधारकों की प्रतिक्रियाओं एवं सुझावों के आधार पर इसे तैयार किया गया। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, "नई शिक्षा नीति के लिए परामर्श प्रक्रिया जनवरी 2015 में शुरू की गई थी।33 चिन्हित किए गए विषयों पर बहुआयामी परामर्श प्रक्रिया में ग्राम स्तर से राज्य स्तर तक जमीनी स्तर पर परामर्श हासिल किए गए। लगभग 2.5 लाख ग्राम पंचायतों, 6600 ब्लॉक, 6000 शहरी स्थानीय निकायों, 676 जिलों और 36 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों में एक व्यापक, समयबद्ध, भागीदारी, बॉटम-अप परामर्श प्रक्रिया की गई।"नई शिक्षा नीति तैयार करने के लिए 31 अक्टूबर, 2015 को सरकार ने टी.एस.आर. सुब्रहमण्यन, भारत सरकार के पूर्व मंत्रिमंडल सचिव, की अध्यक्षता में 5-सदस्यीय समिति गठित की जिसने अपनी रिपोर्ट 27 मई, 2016 को प्रस्तुत की थी।24 जून, 2017 को, सरकार ने प्रख्यात वैज्ञानिक के. कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में 9 सदस्यीय समिति का गठन किया। समिति ने 31 मई, 2019 को अपनी रिपोर्ट मंत्रालय को सौंप दी। राज्य सरकारों और भारत सरकार के मंत्रालयों को डीएनईपी 2019 पर उनके विचारों और टिप्पणियों को आमंत्रित करने के लिए पत्र लिखे गए। प्रारूप राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 पर विभिन्न हितधारकों से प्राप्त लगभग दो लाख सुझावों का एक तकनीकी सचिवालय और एनसीईआरटी द्वारा विश्लेषण किया गया था। इसके बाद, स्कूल शिक्षा और उच्च शिक्षा के लिए गठित दो समितियों ने तकनीकी सचिवालय और एनसीईआरटी द्वारा सुझावों पर प्रस्तुत विश्लेषणात्मक रिपोर्ट की जांच की गई।इस प्रकार, राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को तैयार करने से पहले मंत्रालय द्वारा प्रारूप एनईपी 2019 एवं उस पर प्राप्त सुझावों, विचारों और प्रतिक्रियाओं का गहन और व्यापक परीक्षण किया गया।केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, "राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 भारतीय लोकाचार में निहित एक वैश्विक सर्वश्रेष्ठ शिक्षा प्रणाली के निर्माण की परिकल्पना करती है, और सिद्धांतों के साथ संरेखित है, ताकि भारत को एक वैश्विक ज्ञान महाशक्ति के रूप में स्थापित किया जा सके।"

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूएशिया के 48 देशों में सबसे फिसड्डी रहा भारतीय रुपया, आटे-दाल से लेकर पेट्रोल-मोबाइल पर फट सकता है महंगाई बम******एशिया के 43 देशों में सबसे फिसड्डी रहा भारतीय रुपया, जानिए कैसे करेगा आपकी जेब में महंगाई का नया छेदHighlights2021 का साल भारतीय शेयर बाजार के लिए मील का पत्थर रह है। कोरोना संकट के बीच बाजार ने नई ऊंचाइयां छुईं। लेकिन दूसरी ओर भारतीय करंसी रुपया के लिए 2021 का साल बेहद खराब रहा। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय मुद्रा रुपया एशिया में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली करेंसी रही है। बीते लंबे समय से भारतीय रुपये में गिरावट का दौर जारी है। रिपोर्ट के अनुसार, इसके पीछे मुख्य वजह विदेशी निवेशकों की ओर से जारी बिकवाली है।पिछले कुछ कारोबारी हफ्तों में विदेशी निवेशकों के रुख ने भारतीय रुपये की स्थिति कमजोर कर दी है। विदेशी निवेशकों ने बाजार से लगभग 4 बिलियन डॉलर की पूंजी निकाल ली है, जिससे कि रुपये की कीमत में इस तिमाही में 2.2% गिर गई है।रिपोर्ट के मुताबिक, वैश्विक फंड ने भारतीय शेयर बाजार से 420 करोड़ अमेरिकी डॉलर (करीब 31,920 करोड़ रुपये) निकाल लिए है। इतनी पूंजी एशिया में किसी भी शेयर बाज़ार से नहीं निकाली गई है। कोरोना वायरस के नए संक्रमण ओमिक्रॉन के कारण भारतीय शेयर बाज़ार पर लगातार दबाव दिख रहा है। ऐसे में निवेशकों की चिंताएं बढ़ गई है।रिपोर्ट में QuantArt Market Solutions के एक्सपर्ट्स का हवाला देते हुए बताया गया है कि रुपया इस वित्त वर्ष के आखिरी तिमाही यानी मार्च, 2022 के अंत तक गिरकर 78 डॉलर प्रति रुपये की कीमत पर आ सकता है। इसके पहले इसका निचला स्तर अप्रैल, 2020 में 76.9088 पर था। ब्लूमबर्ग ने अपने एक ट्रेडर्स और एनालिस्ट्स सर्वे में यह अनुमान जताया था कि रुपये की कीमत 76.50 डॉलर रह सकती है। ऐसी आशंका है कि रुपया इस साल 4 फीसदी नीचे गिर सकता है। यह इसका गिरावट में लगातार चौथा साल होगा।रुपये की कमजोरी से सीधा असर आपकी जेब पर होगा। आवश्यक सामानों की कीमतों में तेजी के बीच रुपये की कमजोरी आपकी जेब को और छलनी करेगी। भारत अपनी जरुरत का 80 फीसदी कच्चा तेल विदेशों से खरीदता है। अमेरिकी डॉलर के महंगा होने से रुपया ज्यादा खर्च होगा। इससे माल ढुलाई महंगी होगी। इसका सीधा असर हर जरूरत की चीज की महंगाई पर होगा।रुपये की कमजोरी से आपकी जरूरत के मोबाइल फोन, एक्सेसरीज, लैपटॉप, टीवी भी महंगे हो जाएंगे। भारत में अधिकतर मोबाइल की असेंबलिंग होती है जिसके पुर्जे विदेशों से आते हैं। यही हाल आटो सेक्टर पर भी है। यह सेक्टर पहले ही चिप की किल्लत से जूझ रहा है। वहीं अब मैटल और पार्ट भी महंगे होंगे।इसका असर विदेश में पढ़ने वाले भारतीय छात्रों पर रुपये की कमजोरी का खासा असर पड़ेगा। इसके चलते उनका खर्च बढ़ जाएगा। वे अपने साथ जो रुपये लेकर जाएंगे उसके बदले उन्हें कम डॉलर मिलेंगे। वहीं उन्हें चीजों के लिए अधिक कीमत चुकानी पड़ेगी। इसके अलावा विदेश यात्रा पर जाने वाले भारतीयों को भी ज्यादा खर्च करना पड़ेगा।रुपये की कमजोरी से निर्यात क्षेत्र को राहत मिली है। खासतौर पर आईटी कंपनियों के लिए अच्छी खबर है। इससे उनकी कमाई में इजाफा होगा। इसी तरह एक्सपोटर्स को फायदा होगा, जबकि आयातकों को नुकसान होगा।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूडॉलर के मुकाबले चमका रुपया, 53 पैसे की मजबूती के साथ दो हफ्ते की ऊंचाई पर******Dollar Rupeesके मुकाबले रुपये में लगातार सुधार जारी है। शुरुआती कारोबार में शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रूपया 53 पैसे और मजबूत होकर 71.84 पर खुला। इसकी प्रमुख वजह निर्यातकों और बैंकों डॉलर की बिकवाली बढ़ना है। मुद्रा कारोबारियों के अनुसार व्यापार युद्ध संबंधी चिंताओं के मामूली तौर पर कमजोर होने और अन्य विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर के कमजोर पड़ने से रुपये को समर्थन मिला है।बुधवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 61 पैसे की मजबूती के साथ 72.37 पर बंद हुआ था, जो मार्च 2017 के बाद उसकी एक दिन में सबसे अच्छी बढ़त थी। इससे पहले वहीं मंगलवार को रुपया अब तक के अपने सबसे निचले स्तर पर बंद हुआ था। डॉलर के मुकाबले रुपया 47 पैसे टूटकर 72.98 के स्तर पर बंद हुआ था।शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 300 अंक से अधिक का सुधार देखा गया है। जबकि निफ्टी भी 11,300 अंक के ऊपर चल रहा है।ब्रोकरों के अनुसार इसकी प्रमुख वजह व्यापार युद्ध संबंधी तनाव में मामूली कमी आने से वैश्विक बाजार में रुख का सकारात्मक रहना है। साथ ही ब्लूचिप कंपनियों के शेयरों में लिवाली का असर भी शेयर बाजार पर पड़ा है।

दिल्ली और आसपास के इलाकों में CNG के दाम में बढ़ोत्तरी, बढ़ी कीमतें आधी रात से लागू

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूआधार प्रमाणीकरण के साथ व्यवसायों को तीन दिन में मिलेगा जीएसटी पंजीकरण******Businesses to get GST registration within 3 days with Aadhaar authentication वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत पंजीकरण के लिए आवेदन करते समय जो व्यवसाय आधार संख्या देंगे, उन्हें तीन कार्य दिवसों में इसकी मंजूरी मिल जाएगी। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने पिछले हफ्ते जीएसटी पंजीकरण के लिए आधार प्रमाणीकरण को अधिसूचित किया था, जो 21 अगस्त 2020 से लागू है।अधिसूचना के मुताबिक यदि व्यवसाय आधार संख्या नहीं देते हैं तो उनके भौतिक सत्यापन के बाद ही उन्हें दिया जाएगा। वित्त मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि 14 मार्च 2020 को आयोजित जीएसटी परिषद की 39वीं बैठक में नए करदाताओं के लिए आधार प्रमाणीकरण के आधार पर जीएसटी पंजीकरण देने को मंजूरी दी थी।हालांकि, महामारी के कारण लागू किए गए के चलते इसका कार्यान्वयन टाल दिया गया। सूत्रों ने बताया कि भौतिक सत्यापन की स्थिति में 21 कार्य दिवस या उससे अधिक समय लग सकता है।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूKerala News: केरल के दो दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी, आज करेंगे कोच्चि मेट्रो फेज-दो का शिलान्यास******Highlights प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से केरल के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे और इस दौरान वह दो सितंबर को देश के पहले स्वदेश निर्मित विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत (INS Vikrant) को सेवा में शामिल करने सहित विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को बताया कि प्रधानमंत्री बृहस्पतिवार शाम यहां पहुंचेंगे। उन्होंने बताया कि मोदी एक जनसभा को संबोधित करेंगे और कोचीन हवाईअड्डे के पास कलाडी गांव स्थित आदि शंकराचार्य के जन्मस्थान आदि शंकरा जन्मभूमि क्षेत्रम (मंदिर) जाएंगे।पीएम मोदी शाम छह बजे करेंगे परियोजना काशिलान्यासप्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि साथ ही, प्रधानमंत्री बृहस्पतिवार को शाम छह बजे कोच्चि मेट्रो फेज-दो परियोजना का शिलान्यास करेंगे और एसएन जंक्शन से वडक्केकोट्टा तक पहले हिस्से- चरण-1 ए का उद्घाटन करेंगे। अगले दिन शुक्रवार को मोदी कोच्चि में कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड में विक्रांत को सेवा में शामिल करेंगे। साथ ही प्रधानमंत्री ‘नये नौसैनिक ध्वज (निशान) का अनावरण करेंगे, जो औपनिवेशिक अतीत को पीछे छोड़ते हुए समृद्ध भारतीय समुद्री विरासत के अनुरूप होगा।’फेज-2 में 11.2 किमी लंबा होगाइस बीच, कोच्चि मेट्रो ने एक बयान में कहा कि इसका शिलान्यास समारोह सीआईएएल व्यापार मेला और प्रदर्शनी केंद्र में होगा। जेएलएन स्टेडियम मेट्रो स्टेशन से इंफोपार्क, कक्कनड तक कोच्चि मेट्रो रेल परियोजना का प्रस्तावित चरण-दो कॉरिडोर 11.2 किलोमीटर लंबा होगा और इसमें 11 स्टेशन होंगे। इसके अनुसार चरण-एक विस्तार कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड द्वारा सीधे शुरू किए गए कार्य का पहला खंड है।शाम 7 बजे से शुरू हो जाएगा संचालनमोदी द्वारा स्टेशन को कोच्चि के लोगों को समर्पित करने के तुरंत बाद दोनों स्टेशनों का राजस्व संचालन शाम 7 बजे शुरू हो जाएगा। मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त ने निरीक्षण के बाद पेट्टा-एसएन जंक्शन खंड के राजस्व संचालन को मंजूरी दी थी। वडक्केकोट्टा, एसएन जंक्शन स्टेशनों और पनमकुट्टी पुल का काम 16 अक्टूबर, 2019 को शुरू किया गया था और यह कोविड-19 महामारी के दौरान भी जारी रहा था। वडक्केकोट्टा 4.3 लाख वर्ग फुट के क्षेत्र के साथ मेट्रो स्टेशनों में सबसे बड़ा है। अन्य मेट्रो स्टेशनों के विपरीत, स्टेशन के अंदर और बाहर दोनों तरफ बड़े व्यावसायिक स्थान बनाए गए हैं।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूGood News: HSBC और Yes बैंक ने घटाईं होम लोन की दरें, SBI और HDFC के बराबर हुआ ब्याज******Good News: HSBC और Yes बैंक ने घटाईं होम लोन की दरें, SBI और HDFC के बराबर हुआ ब्याजमुंबई। होम लोन ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है। निजी क्षेत्र के एचएसबीसी बैंक ने शुक्रवार को आवास ऋण पर अपनी ब्याज दर को 0.10 प्रतिशत घटाकर 6.45 प्रतिशत कर दिया। यह पेशकश दूसरे बैंक आवास ऋण के हस्तांतरण के लिए है। यह बैंक उद्योग में सबसे कम ब्याज दरों में से एक है। वही नए ऋण के लिए एचएसबीसी बैंक 6.70 प्रतिशत की दर से आवास ऋण की पेशकश कर रहा है।यह दर सार्वजनिक क्षेत्र के स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और एचडीएफसी बैंक द्वारा दी जा रही पेशकश के बराबर है। यस बैंक ने भी आवास ऋण पर अपनी दरों को घटाकर इसी स्तर पर कर दिया है। पिछले महीने कोटक महिंद्रा बैंक ने आवास ऋण पर अपनी ब्याज दरों में कटौती करते हुए इसे 6.50 प्रतिशत से शुरू करने की घोषणा की थी।कोविड-19 महामारी की भयावह दूसरी लहर के बावजूद भारतीय कंपनियों की ऋण स्थिति में चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान मजबूत सुधार देखा गया। ज्यादातर रेटिंग कंपनियों ने भारतीय कम्पनियों में गिरावट की बजाय सुधार दर्शाया। रेटिंग एजेंसियों के अनुसार कॉरपोरेट कंपनियों की स्थिति में सुधार मांग में तेजी और निरंतर सुधार को दर्शाती है। देश की तीन घरेलू रेटिंग एजेंसियों क्रिसिल रेटिंग्स, इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च और इक्रा रेटिंग्स ने शुक्रवार को चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान भारतीय कंपनियों के प्रदर्शन को लेकर अपनी-अपनी रिपोर्ट जारी की। क्रिसिल रेटिंग के अनुसार अप्रैल-सितंबर 2021 के बीच उसका ऋण अनुपात बढ़कर 2.96 गुना हो गया, जिसमे से 488 में सुधार और 105 में गिरावट हुई।

दिल्ली और आसपास के इलाकों में CNG के दाम में बढ़ोत्तरी, बढ़ी कीमतें आधी रात से लागू

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूसरकार की भारतनेट परियाजना लाई रंग, ग्रामीण क्षेत्रों में वाई-फाई हॉटस्पॉट से डाटा खपत 190% बढ़ी******Data consumption in rural areasनई दिल्ली। के तहत वाई- ई हॉटस्पॉट की शुरुआत से सेवा के छह महीनों के दौरान डाटा की खपत 190 प्रतिशत बढ़कर 95 टेराबाइट पर पहुंच गयी है। एक आधिकारिक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी है। दूरसंचार विभाग द्वारा 30 अप्रैल को जारी रिपोर्ट के अनुसार, जिन ग्रामीण क्षेत्रों में भारतनेट के तहत वाई-फाई हॉटस्पॉट मुहैया कराये गये हैं वहां पिछले छह महीने में डाटा की खपत 190 प्रतिशत बढ़ी हैरिपोर्ट में कहा गया कि सरकार एक लाख ग्राम पंचायतों में यह सेवा शुरू कर चुकी है और बचे डेढ़ लाख पंचायतों में इस साल के अंत तक शुरू करने का लक्ष्य है।रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 12 महीनों के पहले छह महीने में जहां इंटरनेट का उपयोग करीब 33 टेराबाइट हो रहा था, वहीं पिछले छह महीने में यह बढ़कर 95 टेराबाइट हो गया।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूCSK vs DC Dream 11 Prediction : डुप्लेसिस की कप्तानी में ये हो सकती है सबसे धाकड़ Dream 11 टीम******इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में आज चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला खेला जाना हैं। इस सीजन के ओपनिंग मैच में डिफेंडिंग चैंपियन मुंबई इंडियंस को मात देने वाली चेन्नई को अपने दूसरे मैच में राजस्थान रॉयल्स के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। वहीं, दिल्ली कैपिटल्स ने अपने किंग्स इलेवन पंजाब को सुपर ओवर में मात देकर अपने अभियान का आगाज जीत से किया था। आज के मैच में अनुभवी कप्तान धोनी की टक्कर युवा कप्तान श्रेयस अय्यर से होनी है। ऐसे में Dream 11 टीम कुछ इस प्रकार रहने वाली है।हमने अपनी Dream 11 टीम में दिल्ली कैपिटल्स के श्रेयस अय्यर और शिखर धवन को जगह दी हैं क्योंकि दोनों ही शानदार बल्लेबाज हैं। अय्यर ने IPL 2020 के अपने पहले मैच 39 रनों की पारी खेली थी। अय्यर की तरह धवन को भी आप अपनी Dream 11 टीम से बाहर रखने की भूल नहीं करेंगे। तीसरे बल्लेबाज के रुप में चेन्नई के फॉफ डुप्लेसिस को शामिल किया गया है जो इस आईपीएल में शानदार फॉर्म में है और पिछले 2 मैचों में बेहतरीन अर्धशतक जड़ चुके हैं। डुप्लेसिस अटैकिंग बल्लेबाज हैं और थोड़ा टिकने के बाद बड़े-बड़े शॉट खेलते हैं। डुप्लेसिस के बाद शिमरोन हेटमायर Dream 11 टीम के चौथे बल्लेबाज होंगे जो हाल ही में खेली गई कैरेबियाई प्रीमियर लीग में शानदार फॉर्म में नजर आए थे।Dream 11 टीम में विकेटकीपर के तौर पर सबसे मजबूत पिक हैं रिषभ पंत जो T20 फॉर्मेट के विस्फोटक बल्लेबाज हैं। पंत ने पिछले मैच में भी अच्छी बल्लेबाजी की थी। पंत उन कुछ बल्लेबाजों में से एक हैं जो एक बार टिक जाते हैं, तो उन्हें रोकना मुश्किल हो जाता है।Dream 11 टीम के ऑलराउंडरों के तौर पर हमने रविंद्र जडेजा और मार्कस स्टोईनिस को जगह दी है। जडेजा ने मुंबई के खिलाफ पहले मैच में 2 विकेट अपने नाम किए थे। हालांकि दूसरे मैच में उन्होंने काफी रन लुटाए थे। इसके बावजूद आप जडेजा को बतौर ऑलराउंडर अपनी Dream 11 टीम में जरुर शामिल करेंगे। जडेजा के बाद जो खिलाड़ी हमारी Dream 11 टीम में ऑलराउंडर के रुप में जगह बनाने में सफल रहे हैं, वो हैं दिल्ली के मार्कस स्टोईनिस। स्टोईनिस ने दिल्ली की ओर से अपने पहले मैच में शानदार अर्धशतक लगाया था और अपनी इस पारी के दम पर टीम को जीत दिलाई थी। स्टोईनिस बैट और बल्ले से कभी भी कमाल दिखा सकते हैं। पिछले 2 मैचों में चेन्नई के सैम कर्रन ने जिस तरह का प्रदर्शन किया है, उसको देखते हुए कर्रन की इस टीम में जगह 100 प्रतिशत बनती है। कर्रन को न केवल 4 ओवर गेंदबाजी दी जा रही है बल्कि उन्हें बैटिंग में भी प्रमोशन दिया जा रहा है।Dream 11 टीम में गेंदबाजी के तौर पर दिल्ली कैपिटल्स के कगिसो रबाडा आपकी पहली पसंद होने चाहिए क्योंकि ये एक कंपलीट गेंदबाज है। रबाडा के पास पेस के साथ-साथ जबरदस्त लाइन और लैंथ भी है। रबाडा की बदौलत ही दिल्ली की टीम ने सुपर ओवर में पंजाब को मात दी थी। इसके बाद आता है चेन्नई के दीपक चाहर का नाम जो T20 के स्पेशलिस्ट गेंदबाज माने जाते हैं और IPL में उन्होंने ये प्रूफ भी किया है। लुंगी एंगिडी भी एक विकेट टेकिंग गेंदबाज हैं और यही वजह है कि हमारी Dream 11 टीम में ये अपनी जगह बनाने में सफल रहे हैं।श्रेयस अय्यर, शिखर धवन, फॉफ डुप्लेसिस (कप्तान), शिमरोन हेटमायर, ऋषभ पंत, रविंद्र जडेजा, सैम कर्रन (उपकप्तान), मार्कस स्टोईनिस, कगिसो रबाडा, दीपक चाहर, लुंगी एंगिडी।

दिल्ली और आसपास के इलाकों में CNG के दाम में बढ़ोत्तरी, बढ़ी कीमतें आधी रात से लागू

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूNCB के पूर्व जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का तबादला, भेजे गए चेन्नई******Highlights मुंबई के पूर्व एनसीबी जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का मुंबई से चेन्नई ट्रांसफर हो गया है। वे पहले क्रूज ड्रग्स मामले की जांच का हिस्सा थे। क्रूज ड्रग्स केस में बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को क्लीन चिट मिलने के बाद वानखेड़े का तबादला किया गया है।बता दें कि एनसीबी की ओर से आर्यन खान और पांच अन्य को शुक्रवार को क्लीन चिट दिए जाने के बादसमीर वानखेड़े एक बार फिर चर्चा में आए। एनसीबी ने शुक्रवार को मुंबई की एक अदालत में कहा कि उसने पर्याप्त सबूतों के अभाव में आरोपपत्र में आर्यन का नाम नहीं लिखा है। वानखेड़े की अगुवाई में चलाए गए अभियान के दौरान ही आर्यन और 20 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था।राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) से सितंबर 2020 में एनसीबी में तैनाती तक भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी वानखेड़े अक्सर खबरों में रहे। वह उस जांच दल का हिस्सा थे, जिसने बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े मादक पदार्थ के एक मामले की जांच की थी। राजपूत ने जून 2020 में अपने फ्लैट में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी।जांच के तौर पर एजेंसी ने बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह और अन्य से पूछताछ की थी। मुंबई में एनसीबी कार्यालयों में बॉलीवुड सितारों के पूछताछ के लिए आने के कारण वानखेड़े अक्सर जांच को लेकर मीडियाकर्मियों से बातचीत करते थे। जोनल निदेशक के उनके कार्यकाल के दौरान एनसीबी ने मुंबई और गोवा में मादक पदार्थ के कई तस्करों के खिलाफ कार्रवाई की और करोड़ों रुपये के मादक पदार्थ जब्त किए।वानखेड़े के दल ने मादक पदार्थ जब्त करने के एक मामले में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के दामाद समीर खान को भी गिरफ्तार किया, लेकिन बाद में एक अदालत ने यह कहते हुए समीर खान को जमानत दे दी कि उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं है, जिसके बाद मलिक ने वानखेड़े पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूभारत ने पाकिस्तान में बैठक के लिये हुर्रियत कान्फ्रेंस को आमंत्रित करने पर OIC पर साधा निशाना******Highlights भारत ने अगले सप्ताह इस्लामाबाद में होने वाली इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) की बैठक में भाग लेने के लिये हुर्रियत कान्फ्रेंस को आमंत्रित किये जाने को लेकर संगठन पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत इस तरह की गतिविधियों को बहुत गंभीरता से लेता है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा, ‘‘हम ओआईसी से उम्मीद करते हैं कि वह भारत-विरोधी गतिविधियों और आतंकवाद में संलिप्त रहने वालों को प्रोत्साहित न करे।’’ओआईसी की बैठक में हुर्रियत कान्फ्रेंस को आमंत्रित किये जाने पर के प्रवक्ता ने कहा कि हम इस तरह की गतिविधियों को बहुत गंभीरता से लेते हैं जो देश की एकता को नष्ट करने का प्रयास है और सम्प्रभुता एवं क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करती हैं।बागची ने कहा, ‘‘यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि ओआईसी विकास संबंधी महत्वपूर्ण गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय अपने एक सदस्य के राजनीतिक एजेंडे के अनुसार काम कर रहा है।’’ प्रवक्ता ने के परोक्ष संदर्भ में कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि ओआईसी महत्वपूर्ण विकास गतिविधियों पर ध्यान देने की बजाय एक सदस्य के राजनीतिक एजेंडे से मार्गदर्शित हो रहा है।ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष के निमंत्रण की मीडिया रिपोर्ट पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने आगे कहा कि भारत सरकार ऐसी कार्रवाई को बहुत गंभीरता से लेती है जिनका उद्देश्य सीधे तौर पर भारत की एकता को नष्ट करना है और जो हमारी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करती है। हम उम्मीद नहीं करते कि ओआईसी आतंकवाद और भारत विरोधी गतिविधियों में लगे देशों और संगठनों का प्रोत्साहन करेगा।अरिंदम बागची ने कहा, ‘‘हमने बार बार ओआईसी से कहा है कि वह भारत के आंतरिक मामले में हस्तक्षेप करने के लिये अपने मंच का इस्तेमाल निहित स्वार्थी तत्वों को प्रदान करने से बचे।’’ बागची से उन खबरों के बारे में पूछा गया था जिसमें ओआईसी द्वारा आल पार्टी हुर्रियत कान्फ्रेंस को 25 एवं 23 मार्च को इस्लामाबाद में होने वाले उसकी बैठक में हिस्सा लेने के लिये आमंत्रित किया गया था ।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूMelting Metals: स्टील सेक्टर में मंदी का असर, टाटा स्टील ब्रिटेन में करेगी 720 कर्मचारियों की छंटनी****** स्टील की गिरती कीमतों का असर कर्मचारियों पर पड़ना शुरू हो गया है। ब्रिटेन की सबसे बड़ी इस्पात निर्माता, टाटा स्टील अपने ब्रिटेन के एक प्लांट से 720 कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है क्योंकि कर्मचारियों को बनाए रखने संबंधी वार्ता विफल हो गई है। कंपनी ने जुलाई में कहा था कि उसके साउथ यॉर्कशायर के रॉदरहैम संयंत्र में कर्मचारियों की छंटनी करनी पड़ सकती है लेकिन वह कर्मचारियों की छंटनी कम से कम करने की दिशा में काम करेगी।टाटा स्टील के प्रवक्ता ने कहा कि ब्रिटेन में स्टील का गलत कारोबार, मजबूत पाउंड और ऊर्जा लागत बढ़ने से यह सेक्टर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि कंपनी ने हर संभव विकल्पों की तलाश की जिससे घाटा को पूरा किया जा सके, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इसके बाद कंपनी ने छंटनी पर विचार किया है। चीन में मंदी और ग्लोबल स्तर पर ओवर सप्लाई की वजह से स्टील सेक्टर बूरे दौर से गुजर रहा है। इसको देखते हुए ब्रिटेन सरकार ने आपातकालीन सहायता की शुरूआत की है। इसके तहत सरकार स्टील कंपनियों के लिए एमिशन नियमों में छूट दी है।स्थानीय सांसद जॉन हेली ने कहा कि उन्हें टाटा की तरफ से पुष्टि की गई है कि रॉदरहैम उपनगरीय इलाके में स्थित एल्डवर्क संयंत्र में सभी कर्मचारियों की छंटनी होगी। उन्होंने द टाइम्स से कहा रॉदरहैम इस्पात संकट का भूला-बिसरा शहर बन गया है। हम उतने ही प्रभावित हैं जितना देश के अन्य भाग, सैकंडों कर्मचारियों की छंटनी की पुष्टि की गई है लेकिन सरकार हमें उस तरह का कोई समर्थन नहीं दे रही है जो अन्य इस्पात शहरों को दिया गया है। हेली ने कहा कि स्टील कर्मचारियों का इस साल क्रिसमस और नया साल खराब हो सकता है।

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूयूपी चुनाव 2022: चुनाव से 6 महीने पहले ओपिनियन पोल दिखाने पर प्रतिबंध लगाने की मांग, BSP ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र******बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के महासचिव संतीश चन्द्र मिश्रा ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर विधानसभा चुनाव से 6 महीने पहले से मीडिया में दिखाए जाने वाले ओपिनियन पोल पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। बता दें कि, उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में अगले साल यानी 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। यूपी का चुनाव सभी राज्यों के मुकाहले काफी अहम माना जा रहा है।बीएसपी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने चुनाव आयोग को लिखे लेटर में मांग कीहै कि विधानसभा चुनाव से 6 महीने पहले तक मीडिया में दिखाए जाने वाले ओपिनियन पोल्स पर प्रतिबंध लगाया जाए। गौरतलब है कि, विभिन्न टीवी चैनल्स चुनाव के कुछ महीने पहले से ओपिनियन पोल दिखाते हैं, जिसमें बताया जाता है कि चुनाव में किस दल को कितनी सीटें मिल सकती हैं। हालांकि, चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद से अंतिम दिन की वोटिंग तक चुनावी सर्वों पर रोक लगी हुई है। इसके बाद चैनल्स और एजेंसियां सर्वे के आधार पर एग्जिट पोल्स का प्रसारण करती हैं।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूPM Modi govt 8 years: मोदी सरकार के 8 साल पूरे, देखिए इन 'अच्छे दिनों' का रिपोर्ट कार्ड******Highlightsदेश के लोकतांत्रिक इतिहास में 26 मई का विशेष महत्व है क्योंकि 2014 में शानदार चुनावी जीत के बाद ने आज ही के दिन देश के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। 2019 में नरेन्द्र मोदी ने लगातार दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री का पद संभाला और इस बार भी 26 मई की तारीख का एक खास महत्व था। सितंबर 2013 में नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी के ऐलान के बाद 'बहुत हुई महंगाई की मार, अबकी बार मोदी सरकार' और 'हम मोदी जी को लाने वाले हैं, अच्छे दिन आने वाले हैं' जैसे नारे गूंजने लगे। जनता कांग्रेस सरकार से पहले ही नाराज थी। 2014 में लोकसभा चुनाव हुए तो भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 282 सीटों पर जीत हासिल की। ये पहली बार था जब किसी गैर-कांग्रेसी पार्टी ने बहुमत हासिल किया था। 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी ने पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली।इसके 5 साल बाद जब 2019 में लोकसभा चुनाव हुए तो माना जा रहा था कि भाजपा इस बार 2014 जैसा कमाल नहीं दिखा पाएगी लेकिन जब नतीजे आए तो भाजपा के लिए 2014 से भी बड़ी जीत लेकर आए। 2019 में भाजपा ने अकेले दम पर 303 सीटें जीतीं और नरेंद्र मोदी दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने। मोदी सरकार को सत्ता पर काबिज हुए 8 साल हो गए है और इन 8 सालों में काफी कुछ बदल गया है। भारत की GDP लगभग दोगुनी हो गई है, आम आदमी की कमाई भी लगभग दोगुनी हो गई है। इसके महंगाई भी बेतहाशा बढ़ी है।बीते 8 सालों में GDP ग्रोथ, विनिवेश, नोटबंदी, एसेट मॉनेटाइजेशन और शेयर मार्केट में उतार-चढ़ाव के अलावा रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते महंगाई से लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था के बावजूद मोदी सरकार के इन 8 सालों में कितने अच्छे दिन आए इस पर एक नजर डालते हैं-

दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूसशस्त्र बलों के लिए यह उठ खड़े होने का समय है, कोविड महामारी की स्थिति पर जनरल बिपिन रावत ने कहा****** भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने मंगलवार को सशस्त्र बलों का आह्वान किया कि वे उठ खड़े हों और महामारी से निपटने तथा समयबद्ध तरीके से बीमारी की रोकथाम से संबंधित सुविधाएं उत्पन्न करने में नागरिक प्रशासन की मदद करें। जनरल रावत ने अपने संदेश में कहा कि इस परिस्थिति में समय पर मदद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, ‘‘सशस्त्र बलों के लिए यह उठ खड़े होने तथा समयबद्ध तरीके से कोविड रोकथाम संबंधी सुविधाएं उत्पन्न करने में नागरिक प्रशासन की मदद करने का समय है।’’ ने कहा, ‘‘वर्दीधारी हमारे स्त्री-पुरुषों में हर जगह हर समय बाधाओं को तोड़ने और आगे बढ़ने के लिए इच्छाशक्ति तथा समर्पण भाव है।’’ जनरल रावत का यह संदेश ऐसे समय आया है जब एक दिन पहले उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को महामारी की दूसरी लहर से निपटने के लिए सशस्त्र बलों द्वारा उठाए जा रहे विभिन्न कदमों की जानकारी दी।उन्होंने कहा, ‘‘हम कर सकते हैं और हम करेंगे, आगे बढ़ें, अभी हमें लंबी यात्रा तय करनी है।’’ सेना के तीनों अंग और रक्षा मंत्रालय की विभिन्न शाखाएं महामारी से निपटने के लिए कई कदम उठा रही हैं। भारतीय वायुसेना खाली ऑक्सीजन टैंकरों और कंटेनरों को फिलिंग स्टेशनों तक पहुंचाने तथा कोविड अस्पतालों के लिए आवश्यक दवाएं और उपकरण पहुंचाने के काम में लगी है।दिल्लीऔरआसपासकेइलाकोंमेंCNGकेदाममेंबढ़ोत्तरीबढ़ीकीमतेंआधीरातसेलागूरेलवे ने की दिवाली और छठ के लिए 46 स्पेशल ट्रेनों की घोषणा, ये रही पूरी लिस्ट******Special Trainsकोरोना संक्रमण के बीच देश इतिहास के सबसे बड़े संकट से गुजर रहा है। 2020 में पहली बार रेलवे कई महीनों तक बंद रही। ट्रेनों का परिचालन एक बार फिर से शुरू हो गया है। लेकिन अभी यह सीमित रूटों पर सीमित स्टेशनों के लिए ही है। इस बीच भारत में त्योहारों का मौसम भी शुरू हो गया है। त्योहारों पर अपने घर जाने वाले लोगों के लिए रेलवे ने अब 46 स्पेशल ट्रेनों की घोषणा की है।रेलवे ने कई स्पेशल ट्रेन चलाने का ऐलान किया है। यह सभी ट्रेना यूपी और बिहार के अलग-अलग जिलों में जाएगी। कई इन रास्तों से होकर गुजरेंगी ऐसे में त्यौहार पर घर जाने की उम्मीद लगाए बैेठे लोगों का काफी राहत मिलेगी। अगर आप भी यात्रा की योजना बना रहे हैं तो स्पेशल ट्रेनों की लिस्ट आपके काम आ सकती है।

पिछला:Tesla के शेयर सस्ते में खरीदने का मौका मिलेगा, जानिए, ऐसा क्यों होगा और क्या करने वाले हैं Elon Musk
अगला:सरकार ने गेहूं और तुअर दाल पर लगाया 10 फीसदी आयात शुल्‍क, कीमतों को नियंत्रण में रखने की है कोशिश
संबंधित आलेख